RSS

Monthly Archives: માર્ચ 2014

Shayri part 6


Us Ne Kaha K Khawab Mein Aane Ka Waqt Do…!!

Main Ne Kaha K Neend Ka Mausam Guzar Gaya…!!

********

Bhool Jaaun To Jee Nahin Sakta….!!

Yaad Aatay Ho To Dam Nikalta Hai…!!

********

Agar Meri Hasti Bhi Mit Jaaye Toh Zara Gum Nahi,

Bus Do Pal Aankh Mein Saja Lo Kaajal Ki Tarah…

*******

Mohabbat Zindgi Ke Faislon Se Lad Nahi Sakti…

Kisi Ko Khona Padta He Or Kisi Ka
Hona Padta he,,,!

********

Tumhari Aarzoo Ki Hai’ Kabhi Maanga Hai Jo Rab Se…!!

Mere Honton Per Rahte Ho’ Meri Jaan Tum Dua Ban Ke…!!

*********

Sunsaan rahon per..mujhe dekh muh fer liya unhone

shukr hai…!! Mere chehre ki pehchan abhi baki hai….

********

Mukhtasar si baat hai ki tere bina,

Zindagi ki, samajh nahi aati…..

*********

Agar mohabbat ki hadh nahin koi,

Dard ka hisaab kyun rakhoon ?????

**********

MaloOm Bhi Hai K Aisaa Mumkin
He Nahi…!!!

Phir Bhi Hasrat Rehti Hai K Tum Yaad Kro Ge…!!!!!

********

Doobi hain meri ungliyaan khud apne lahu mei ,

Yeh kaanch ke tukdon ko uthaney ki sazaa hai..

*********

Tum agar khwab ho…

To nind hume bhi bahut gaheri aati he…

*********

Aik naatak hai zindagi jis mein..

Aah ki jaaye, Waah ki jaaye…

********

Khawahishon ka kafila bhi ajeeb hi hai,

Aksar wahin se guzarta hai jahan rasta na ho…

********

Wo kehta tha tere jism ka saya hoon me..

Shayad isi liye andheron me sath chhor gaya.!

********

Wo mera sab kuch hi hai bas mukddar nahi,,

Kash……..

Wo mera kuch bhi nahi hota sirf mukddar hota”’!

*********

Kafee aansu baha diye hai is chaar din ki mohabat mein…

Sajde mein bahate to aaj gunahoan se paak hote ….

*********

Mat haso tum jab Kisi ko dard me tadpta dekho…

Kon jane ke mohabbat ke agle shikar tum hi ban jao…

*********

Usne ek din kaha tha, ki zindagi bhar saaath nibhayenge….

Maine yeh bhi nahi pucha ke mohobat ke sath, ya yaadon ke sath……

********

Laon Ga Kahan Se Main Judai Ka Hosla,,,

Kyun Iss Qadar Qareeb Mere Aa Gaye Ho Tum….?

*******

Wahan tak saath chalte hain jahan tak saath mumkin ho,

jahan halat badlenge wahan tum bhi badal jana…

********

Tere Bina Kaise Meri Guzarengi Ye Raatein, Tanhai Ka Gam Kaise Sahengi Ye Raatein, Bohat Lambi Hai Ye Ghadiyan Intezaar Ki, Karwat Badal-Badal Kar Katengi Ye Raatein.

**********

Nigah Utha K Wo Dekhe’n Kbhi Jo Meri Taraf..

Wo Hi Ek Nigah Meri Kainaat Hoti Hai…

*********

Ye Meri Majburiyo ko Meri Badkismati Mat Samajhna,
.
.
Qki Hum Un Rahon Par Se bhi Guzre he Jahan Kismat To Dur Saaya bhi Sath Ni deta…!!

*********

Har baat samjhane ke liye nahi hoti,
Zindagi aksar kuch paane ke liye
nahi hoti,

Yaad aksar aati hai aapki,
Par har yaad jatane ke liye nahi
hoti…………

*********

Tere rone se unke dil par kuch asar na hoga,

Haseen log aksar be-dard huwa karte hain….

********

Khuda Ne Mujhse Kaha, Ishq Na Kar Tu Deewana Ho Jayega,

Maine Kaha Aey Khuda, Tu un Se To Mil, Tujhe Bhi Ishq Ho Jayega.

********

Meri Tanhai ka mujhe gila nahi, Kya hua jab koi mujhe mila nahi, Phir bhi dua karenge aapke liye, Aap ko wo sab mile jo hame mila nahi.

********

Khuda Ne Mujhse Kaha:
“Tu Chahe Lakh Sajde Kar”…
Na wo Teri Thi Na Hai Aur Na Hi
Hogi. .
.
.
Humne Bhi Dil Se Kaha:
“Aye Khuda..
Wo Meri Ho Chahe Na Ho…
..
Mujhe To Usi Se Ishq Tha..
Usi Se Ishq Hai.
Aur
Usi Se Ishq Rahega…

********

Na sawaal banke mila karo,
Na jawaab banke mila karo,
Meri zindagi mera khwaab hai,
Mujhe khwaab banke mila karo…

*********

Mithi si yaade dekar chale gaye, dil hamara sath lekar chale gaye,
sari mehfil dekhti reh gayi vo mast aankho se pilakar chale gaye…

*********

Log aksar kehte hai Humse ki…..

“Ab Aap Badal Gae Ho”

Hum bhi Has Pade ye Sochkar ki…..

“Toote Hue Patto Ke Rang Aksar
Badal Hi Jaya Karta Hai….

********

Uske Dilme Thodi Si Jagah Maangi Thi..

Musaafiro Ki Tarah.. Usne Tanhaaiyo Ka Ek Shaher Mere Naam Kar Diya……

********

Itna Betaab Na Ho, Mujhse Bichaadne Ke Liye ,

Zaraa Thair Ja.

Tujhe Sirf Ankho Se Hi Nahi Dil se Bhi Juda Karna Hai…

*********

Mali gayu hatu ema Ek Prem nu tipu…

Etle me jindagi ni badhiii kadvaahat pee lidhii….

*********

Ho Joh Mumkin Toh Apna Bana Lo Tum..

Meri Tanhai Gawah Hai Mera Apna koi Nahi.

*********

Hum Toh Aagaaze Mohabbat Main Hi Loot Gaye,

Aur Log Kehte Hai Ki Anjaam Bura Hota Hai…..

**********

Yeh Hi Sochkar Un Ki Har Baat Ko Sach Mana Hai,

Ke Itne Khoobsurat Lab Jhoot Kaise Bolenge..

*********

Badi Ajeeb Hai Nadaan DiL Ki Khwahish Ya Rab…!!

Amal Kuch Nahi Aur DiL Talabgar Hai Jannat Ka…!!

*********

Lehaze Ishq Na Hota To Tujh Se Ranjishien Hoti..!!

Shikayat Sirf Itni Ha, K Tu Samjha Nahi Mujhy..!!

*********

Kisi ki bhi Zindagi waisi nahi chalti jaise Sapne wo dekhta hai…

Fir bhi ye Sapne hi Zindagi ka Sara Safar tay krwa dete hai..!

*********

Tere saath na hone ka gham nahin mujhe….

bas darr hain ke….kahin ab akelepan se hi pyar na ho jaaye…

*********

Wafai kya cheez hai tab samajh aayi Jab kisse bewafa se dil laga baithe…

*******

Ye Naa Puch Main Sharabi Q Huaa.?? Buss Yun Samjh Le,

!!..Ghamon Ke Bojh Se, Nashe Ki Bottle Sasti Lgi….!!

********

Socha tha chain se soyenge kabar me ……..!

Par yaha bhi teri yaad satati hai ………!

*********

Palken to zamane se band hai ………!

Lekin aankhe aaj bhi tere sapne sajati hai….

*******

Kisi khoobsurat ladki ki aankh mai nahi jakhte..

Wo barbaad ker deti hai…..

********

Bas ek shaks mere dil ki zid hai ….

Na uss jaisa chahiy na koi orr chahiye….

********

Lagta Hai Iss Baras Mohabbat Ho Hi Jaye Gi,

Mainee Khawab Main Khud Ko Martay Dekha Hai….

**********

Ujaale apni yaadon ke hamare saath rehne do..

Na jaane zindagi ki kis gali mein shaam ho jaaye.

********

Wo dard hi kya jo mit jaye ,

wo pyar hi kya jo mil ke bichad jaye…..

*********

Chalo Baant Lete Hein Kuch
Is Tarah Se Duniya Saari . . .

Chalo Sab Kuch Tum Rakh Lo,
Ek Bus Tum Hamaare . .

*********

‘Rishte’ or ‘Raaste’ ke beech ek ajeeb rishta hota hai..

Kabhi Rishton se raaste mil jate hai,,
Aur
Kabhi raasto me Rishte ban jate hai..

*********

Teri Aahat hai, Muskurahat hai..Kuch aur nhi ye chahat hai

Naino se Naino ko tak ke fir tumhe Najre churane ki Adat hai.

********

Palko Mai Aansu Aur Dil mai Dard Soya hai

Hasne Walo ko kya Pata Rone wala kis kadar Roya hai…

*********

Ye To Bas Wohi Jan Sakta hai Meri Tanhai Ka Alam

jisne Zindgi mai kisi ko Pane se Pehle khoya hai

*******

Aakhir girte huye Aansu ne mujhse bol hi diya
ki
Nikal diya na mujhe uske liye jiske liye tu KUCH BHI NHi…..

********

Mat raho dur hum se Itna ki apne faisle par afsos ho jaye..

Kal ko kya pata aise ho mulaqat humari..Ki Aap roye lipat kar humse, Aur hum khamosh ho jaye..

********

Jashn e zindagi mein haste sabhi hai lekin..

jigar chahiye tanhaiyo me muskurane ka…

********

Diye jate ho Jo ye dhamki gaya to fir na aaunga …………………….

kahan se aaoge pehle meri chahat se jakar dikhao to……….

********

Hum is kabil to nahi ke koi humein apna samjhega,

Lekin itna to yaqeen hai koi royega boho0at hume kho dene ke baad.

*********

Jis ke liye sab kuch luta diya humne,
wo kehte hai unko bhula diya humne,

*********

Gaye the hum unke aansu pochne,

ilzam de diya ki unko rula diya humne..!!

**********

Akhir do gaz zameen mil hi gayi mujhe..

Marne ke baad mai bhi zamindar ho gaya…

*******

Jaadu mere liye sirf ek lafz tha

jab tak tumhe dekha nahi tha…

********

Aankhein Hi Bayan Karti Hain Dil Mein Chupe Raaz

Phir Kyun Tumhen Yaqeen Meri In Anko pe Nahi he!!!!

********

Chote Se Dil Mein Kis Kis Ko Jagah Dun Yaa Rab…..

Gham Rahe Fariyaad Rahe
Ya Uski Yaad Rahe…..

*********

Riwaaz to yahi hain duniya ka..mil jaana aur bichhad jaana..

Tumse yeh kaisa rishta hain..na milte ho na bichhadte ho.??

********

Khaali Nahi Raha Kabhi Aankhon Ka Ye Makaan…..

Sab Ashq Beh Gaye To Udaasi Thehar Gayi….

********

Us Fiza Mein Bhi Jalta Raha
Mein Kisi Ke Liye…..

Jaha Charaag Bhi Taraste They Roshni Ke Liye….

*********

Rakh de mere Hontho pe apne Honth kuch iss tarah…

Yaa teri pyaas bujh jae yaa meri saans ruk jaye…

********

Sabanami hontho ki garmi de na paayegi sukun..

Pet ke bhugol me uljhe huye insaan ko…

*******

Har Eik K Naam Par Ye Nahi Rukti ,,,,, ,

Dhadknein Boht Ba Aasool Hoti Hein,,,,

********

Mai To Chirag Hu Tere Aashiyane Ka ….
Kabhi Na Kabhi To Bujh Jaunga …. !!

Aaj Shikayat Hai Tujhe Mere Ujaale Se ….
Kal Andhere Mein Bahot Yaad Aaunga…

********

Uss Ke Na Hone Se Kuch bhi Nahi Badla Bas Pehle Jahan Dil Hota Tha, Ab Wahan Dard Hota hai..

*********

Qayamat hai yun tera ban sanwar ke aana….

Humari toh chhodo aaine pe kya guzarti hogi…

**********

Hum paas rahen ya door,
Par dil se dil ko mila sakte hain,

Na khat na lafz ke mohtaz hai hum,
Ek hichki se apke dil ko hila sakte hain hum…

********

Mohabbat nahi hoti gehri saath umar guzarne se,

Dilon ke ehsaas mein ek pal hi kafi hai umar jeene ke liye….!!!

*********

Mat karo pyar kisi se phoolon ki taraha, Phool to pal mae Murjha jaate hai,

Pyar karo to karo Kaaton ki taraha, Jo Chubhne ke baad bi Yaad Aate hain !!

********

Pyar karna koi gunah nhi hota
pyar se pyara koi jzba nhi hota
Pyar ka rista isliye 6upana padta he
Kyuki sacchha pyar logo se bardasht nhi hota..

********

Me gaalib aur faraaz nahi jo baya karu lafzo me
kaha alfaaz ka vazan aur kaha mere yaar ka husn…

********

Ham na samaje, teri nazaro ka takaaza kya hei

Kabhi paradaa, kabhi jalvaa, ye tamaasa kya hei….!

*********

Log kehte hai ke woh zinda hai,
Lekin kya saans lena zindagi hai..?

*********

Mahobat me meri, suqun bhi suqun kya hei,
yaar ki yaado se puchho, mera zunun kya hei… !!!

********

Mahobat ki gulaami se muje aazaad kiya..

Apni yaado ki zanzeero girftaar kar ke….

********

Mil gai hame tarkib jeene ki

De di usane vazah peene ki..

********

Pyase jab bhi paani paani karte hei,

Dariya waale aana-kaani karte hei..

*********

Tuje chaahne ka mera andaaz bhi tune diya,

tere gam me pine ka maahoul bhi tune kiya…

********

Mei sach kahunga, fir bhi haar jaaunga
Wo jhuth bolega aur laajawaab kar dega

********

Taras gaye apke deedar ko,
phir bhi dil aap hi ko yaad karta hai,

humse khusnaseeb to apke ghar ka aaina hai,
jo har roz apke husn ka deedar karta hai…

********

Meri khaamosi ka koi mol nahi….

teri zidd ki kimmat jyaada hai…

*******

Aaya tha sakhs mere dard ko baant ne…

Rukhsat hue to wo apane gam de gaya…

********

Phir Janay Hum Milein Na Milein, Zara Ruko…

Main Dil K Aainay Mein Ye Manzar Samait Loon. .

*********

Jo pura na ho saka wo kissa hu mei…

chhuta hua hi sahi, tera hissa hu mei…

********

Itne zaalim na bano, kuch to murawat seekho

Marte hain tum par to kya, Maar hi daaloge ?

********

Waqt bura ho to. Kuch kam nahi aata,,,

Fir kya naseeb. kya kismat. Or kya haath ki lakeerein…!!!!

********

Zakham kharid laaya hu mei baazar-e-dard se…

Dil zid kar raha hei, muje mahobat hi chahiye…

*******

Jab se bana diya tuje maine apana khuda,

Jannat ka pata log mujse puchh ne lage.

********

Lagi hei pyaas, chalo ret nichodi jaaye

apne hisse me samandar nahi aane wala…

*********

Ek tanhaayi dusari dhadkan

shayari meri tisari saheli hei..

*********

Ae khuda.. tu roj mere gunaah gina karta hei…

muje aane de, teri naainsaafiyo ka hisaab karunga..

********

Chhodo, bhikharne dete hei zindagi ko…

aakhir.. sametne ki bhi hadd hoti hei..!

********

Wo muskurana tera aur mera sare gum bhul jana.

Bahot yaad aata hei shararat bhara wo afsana tera.

********

Ek chehra aaj mere samne se gujar gaya,

Lagta hei aaj to chand din me hi nikal gaya !!!

********

Mahobat kya hei, chalo do lafzo me batate hei

tera mazboor kar dena, mera mazboor ho jaana..

********

Bahot ajeeb hei tere baad ki ye barsaate…

Ham akshar bandh kamro me bhig jaate hei…

*******

Kitaabo ki tarah bahot alfaaz hei muj me

Aur kitaabo ki tarah hi khamos rahta hu mei

*******

Teri aadat se itni aadat ho gayi hei,

E khuda lagta hei muje mahobbat ho gayi hei .

********

Wo juthe wade hazar karte hei,

Par hum yakeen bar bar karte hei.

********

E jindagi ab tu hi ruth ja mujse,

Ye ruthe hue log mujse manaye nahi jate.

*********

Ya khuda “dil” to tudva diya tumne ishq ke chakkar me

kam se kam “leaver” to sambhaalna daaru pine ke liye..!!!

*********

Bada ajeeb hei ye tera ishq bhi jaana..

me hath jodta hu, ye peir pad jata hei…

*********

Khud Me Hum Kuch Is Tarah Kho Jate Hai, Sonchte Hai Aapko To Aapke Hi Ho Jaate Hai,

Nind Nahi Aati Raton Me Par,
Aapko Khwab Me Dekhne Ke Liye So Jate Hai.

*********

Reh na paoge bhula kar dekh lo,
Yakin na aaye to aajma kar dekh lo,

Har jagah mehsus hogi meri kami,
Apni mehfil ko kitna bhi saja kar dekh lo…

*********

Teri Aarzoo Mera Khwab Hai,

Jiska Raasta Bahut Kharab Hai,

*******

Mere Zakhm Ka Andaza Na Lga,

DiL Ka Har Panna Dard Ki Kitab Hai.!!

*********

Luta hei bahot tumne, ab ye na maang mujse..

Tu jaam vapas de ya me botal muh se lagaau…

*********

Je nazar ma hu nathi e ankho mathi bas..

Ek vaar anshu bani vahi java ichchu chu………

********

Savar pade 6 tane yad kari ne,

Pankhio tara nam no kalbalaat kare 6..

*********

Aansu na hote to aankh itni haseen na hoti,
Dard na hota to khushiyo kya hoti,

Puri karte khuda yuhi sab muraade,
To ibadat ki kabhi zarurat na hoti.

*********

Jab dil ke darwaaze par ek khoobsurat dost ne dastak di,

Tab dil ne kaha Kaash kuch saal pehle mile hote….

********

Mout Pe Bhi Mujhe Yakeen Hai,
Tum Per Bhi Aitabar Hai

Dekhna Hai Pehle Kon Aata Hai
..
Humein Dono Ka Intizar Hai.

*******

#ChetanThakrar

#+919558767835

 

ટૅગ્સ:

Shayri part 5


रास्ते कहाँ ख़त्म होते हैं जीन्दगी के सफ़र में,

मंजील तो वहीँ है जहां ख्वाहिशे थम जाए !

********

कितना कुछ जानता होगा वो सख्श मेरे बारे में;

मेरे मुस्कुराने पर भी जिसने पूछ लिया कि तुम
उदास क्यूँ हो ?

********

जी भरके रोते है तो करार मिलता है,
इस जहां मे कहां सबको प्यार मिलता है,

जिंदगी गुजर जाती है इम्तिहानो के दौर से,
एक जख्म भरता है तो दूसरा तैयार मिलता है

********

हिम्मत इतनी तो नहीं मुझमे के तुझे दुनिया से छीन लूँ ,

लेकिन मेरे दिल से कोई तुझे निकाले,
इतना हक तो मैंने खुद को भी नहीं दिया..

********

तनहाई ले जाती है जहाँ तक याद तुम्हारी,
वहीँ से शुरू होती है जिंदगी हमारी,
नहीं सोचा था हम चाहेंगे तुम्हें इस कदर,
पर अब तो बन गए हो तुम किसमत हमारी.

********

चूम कर कफ़न में लिपटें मेरे चेहरे को, उसने
तड़प के कहा….
.
.
नए कपड़े क्या पहन लिए, हमें देखते
भी नहीं’…

********

जाते जाते उसने पलटकर इतना ही कहा मुझसे

मेरी बेवफाई से ही मर जाओगे या मार के जाऊँ”

********

जुल्फों को फैला कर जब कोई महबूबा किसी आशिक की कब्र पर रोती है …

तब महसूस होता है कि मौत भी कितनी हसीं होती हे….

********

तेरी मुहब्बत भी किराये के घर की तरह
थी…..

कितना भी सजाया पर मेरी नहीं हुई….

*********

यहाँ हजारों शायर है जो तख़्त बदलने निकले है,

कुछ मेरे जैसे पागल है जो वक़्त बदलने निकले है,…..

********

एक हमारआँखे है जो सब कुछ बयां कर जाती है…

और एक कम्बखत आपकी हसी है जो बहोत कुछ छुपा लेती है…

********

नर्म लफ़्ज़ों से भी लग जाती है चोटें अक्सर,
रिश्ते निभाना बड़ा नाज़ुक सा हुनर होता है…….
मुझे जिंदगी का इतना तजुर्बा तो नहीं,
पर सुना है सादगी मे लोग जीने नहीं देते।

********

नाकाम मोहब्बतें भी बड़े काम की होती हैं
दिल मिले ना मिले नाम मिल जाता है..!

********

“तारीख हज़ार साल में बस इतनी सी बदली है,…
तब दौर पत्थर का था अब लोग पत्थर के हैं”….

*******

उनके लिए जब हमने भटकना छोड़ दिया,
याद में उनकी जब तड़पना छोड़ दिया,
वो रोये बहुत आकर तब हमारे पास,
जब हमारे दिल ने धडकना छोड़ दिया.

********

वो दिल ही क्या जो वफ़ा ना करे,
तुझे भूल कर जिएं कभी खुदा ना करे,
रहेगी तेरी दोस्ती मेरी जिंदगी बन कर,
वो बात और है, अगर जिंदगी वफ़ा ना करे.

*******

” कितनी झुठी होती है, मोहब्बत की कस्मेँ….।”

देखो तुम भी जिन्दा हो, मैँ भी जिन्दा हूँ….॥

*******

अमीर होता तो बाज़ार से खरीद लाता नकली…
गरीब हूँ इसलीये दील असली दे रहा हु….

********

मेरा कारनामा-ए-जिंदगी, मेरी हसरतों के सिवा कुछ नहीं,

ये किया नहीं,वो हुआ नहीं,ये मिला नहीं,वो रहा नहीं.

*******

वो शायद मतलब से मिलते हैं,
मुझे तो मिलने से मतलब है.!

*******

“अपनों को याद करना प्यार हैं,
गैरों का साथ देना संस्कार हैं,
दुश्मनो को माफ करना उपकार हैं,
और आप जैसे दोस्तों को परेसान करना जन्मसिद्ध अधिकार हैं.”

********

हवा के साथ उड़ गया घर इस परिंदे का,
कैसे बना था घोसला वो तूफान क्या जाने !

*******

तुमने कहा था आँख भर के देख लिया करो मुझे,
मगर अब आँख भर आती है तुम नजर नही आते हो।

********

उसने महबूब ही तो बदला है फिर ताज्जुब कैसा ???

दुआ कबूल ना हो तो लोग खुदा तक बदल लेते है !!!

*******

चंद लम्हे जो मुलाक़ात के मिलते हैं कभी,

वो भी अक्सर अदब आदाब में खो जाते हैं..

*******

हाथ ज़ख़्मी हुए तो कुछ अपनी ही खता थी…..

लकीरों को मिटाना चाहा किसी को पाने की खातिर….!!

*******

वो इस तरह मुस्कुरा रहे थे , जैसे कोई गम छुपा रहे थे !!

बारिश में भीग के आये थे मिलने , शायद वो आंसु छुपा रहे थे !

*******

आज उसकी एक बात ने मुझे मेरी गलती की यूँ सजा दी…

छोड़ कर जाते हुए कह गई,
जब दर्द बर्दाश्त नहीं होता तो मुझ से मोहब्बत क्यूँ की….!!!!

उसके साथ जीने का इक मौका दे दे, ऐ खुदा..

तेरे साथ तो हम मरने के बाद भी रह लेंगे..

********

उठाये जो हाथ उन्हें मांगने के लिए,
किस्मत ने कहा, अपनी औकात में रहो।

*******

जब से बाजी, वफा की हारे हैं.
दोस्तों, हम भी गम के मारे हैं.
तुम हमारे सिवा,सभी के हो,
हम किसी के नहीं,तुम्हारे हैं.

*******

तुम शराफ़त को बाज़ार में क्यूँ ले आए हो…
दोस्त
ये सिक्का तो बरसों से नहीं चलता…!!

*******

मेरे बारे में अपनी सोच को थोड़ा बदलकर देख,
मुझसे भी बुरे हैं लोग तू घर से निकलकर देख…!

*******

हर रिश्ते में विश्वास रहने दो;
जुबान पर हर वक़्त मिठास रहने दो;

यही तो अंदाज़ है जिंदगी जीने का;
न खुद रहो उदास, न दूसरों को रहने दो।

*******

तेरी यादों की कोई सरहद होती तो अच्छा था

खबर तो रहती….सफर तय कितना करना है

*******

बुरे वक़्त में भी.एक अच्छाई होती है…

जैसे ही ये आता है.फ़ालतू के दोस्त विदा हो जाते हैं…!!!

********

जुबां खुली पर कुछ कह न पाए , आँखों से चाहत जता रहे थे !

सुबह की चाहत लिए नज़र में , रात नज़र में बिता रहे थे !!

********

मुझे दफनाने से पहले मेरा दिल निकाल कर उसे दे देना…

मैं नही चाहता के वो खेलना छोङ दे…!!

********

असल में वही जीवन की चाल समझता है …
जो सफ़र में धूल को गुलाल समझता है ..!

********

किसी ने ग़ालिब से कहा
सुना है जो शराब पीते हैं उनकी दुआ कुबूल नहीं होती ….

ग़ालिब बोले: “जिन्हें शराब मिल जाए उन्हें किसी दुआ की ज़रूरत नहीं होती”

*********

अब् तो हमारी हर् खुशी है तु

यानी सम्झो की जींदगी है तु.

********

उनको कहना कि आकर ये दिल भी ले जाये
अब ये मेरी सुनता ही नहीं फिर इसका करूँ क्या

********

गुज़रते लम्हों में सदिया तलाश करता हूँ,
ये मेरी प्यास है नदिया तलाश करता हूँ.

यहाँ तो लोग गिनाते है खुबिया अपनी,
में अपने आप में खामिया तलाश करता हूँ….!!

********

जो भी आता है एक नयी चोट दे के चला जाता है ए दोस्त,….

मै मज़बूत बहोत हु लेकिन कोई पत्थर तो नहीं,….

*********

आरज़ू होनी चाहिए किसी को याद करने की……!!
लम्हें तो अपने आप ही मिल जाते हैं….!!”

********

जिन्दगी जख्मो से भरी है ,वक़्त को मरहम बनाना सिख लें ,

हारना तो है मोतके सामने ,फ़िलहाल जिन्दगी से जीना सिख लें …

********

कुछ इस तरह से वफ़ा की मिसाल देता हूँ
सवाल करता है कोई तो टाल देता हूँ
उसी से खाता हूँ अक्सर फरेब मंजिल का
मैं जिसके पाँव से काँटा निकाल देता हु …

********

लगता है मेरा खुदा मेहरबान है मुझ पर …

मेरी दुनिया में तेरी मौजूदगी यूँ ही तो नहीं है …

*********

वो अपनी ज़िंदगी में हुआ मशरूफ इतना;

वो किस-किस को भूल गया उसे यह भी याद नहीं।

**********

याद आयेगी हमारी तो बीते कल को पलट लेना..

यूँ ही किसी पन्ने में मुस्कुराते हुए मिल जायेंगे ..!!

********

सिर्फ चेहरा ही नहीं शख्सियत भी पहचानो ,

जिसमें दिखता हो वही आईना नहीं होता !

********

मेरी हिम्मत को परखने की गुस्ताखी न हो,

पहले भी कई तूफानों का रुख मोड़ चुका हु .

********

कभी तुम भी हमसे बात कर लिया करो,
मिलने की फरियाद कर लिया करो,
एक हम है जो हर बार शुरुआत करते है,
कभी तुम भी हमसे पहले याद कर लिया करो…

********

पथ्थर समझ के हमें मत ठुकराओ ,
कल हम मंदिर में भी हो सकते हैं ।

********

“युं तो गलत नही होते अंदाज चहेरों के…
लेकिन लोग…
वैसे भी नहीं होते जैसे नजर आते है..!!”

*******

बन्दगी से भी अछ्छा एक काम कर लीया,

मा के चश्मे को रुमाल से साफ कर लीया….

********

दिल में है जो बात किसी भी तरह कह डालिए

ज़िन्दगी ही ना बीत जाए कहीं बताने मे ….

********

जिस्म का दिल से अगर वास्ता नहीं होता !
क़सम खुदा की कोई हादसा नहीं होता !

********

वे लोग जायें कहाँ बोलिये खड़े हैं जो ,
उस हद के बाद जहाँ रास्ता नहीं होता !

*********

जो सरूर है तेरी आँखों में ,वो बात कहां मयखाने मे

तू मिल जाए तों बस ,क्या रखा है ज़माने में ?

********

जुबां पे झूंट जब आया उसे मैंने दबा दिया,

कहा फिर भी नहीं की तू मुझे छोड़ चुकी हे तु

********

झुकी हुई नज़रों से इज़हार कर गया कोई..

हमें खुद से बे-खबर कर गया कोई..

********

युँ तो होंठों से कहा कुछ भी नहीं..

आँखों से लफ्ज़ बयां कर गया कोई..

*******

मैंने मुल्कों की तरह, लोगों के दिल जीते हैं
ये हुकूमत किसी, तलवार की मोहताज नही….

*******

रोज़ रोते हुए कहती है ये ज़िंदगी मुझसे
सिर्फ एक शख्स कि खातिर मुझे बर्बाद मत कर ….

********

ए दिल अब तो होश मैं आ…..
यहाँ तुझे कोई अपना कहता ही नहीं….
और तू है की खामख्वा किसी का बनने पे तुला है…..

*********

किसी को मिल गया मौका, बुलन्दियों को छूने का,
मेरा नाकाम होना भी किसी के काम तो आया।

********

तु हजार बार भी रूठे तो मना लुगाँ तझे,
मगर देख, मुहब्बत में शामिल कोई दुसरा न हो।।

********

एक मुद्दत से मेरी माँ सोयी नही है ….

मैने एक बार कहा था मुझे डर लगता है….

*******

मौम के पास कभी आग को लाकर देखूँ,

सोचता हूँ के तुझे हाथ लगा कर देखूँ……

********

दिल का मंदिर बड़ा वीरान नज़र आता है,
सोचता हूँ तेरी तस्वीर लगा कर देखूँ….

********

चाँद उतरा था हमारे आँगन में,
ये सितारों को गवाँरा ना हुआ,
हम भी सितारों से क्या गिला करें,
जब चाँद ही हमारा ना हुआ…!!!

********

भीगी आँखों से मुस्कराने में मज़ा और है,
हसते हँसते पलके भीगने में मज़ा और है,
बात कहके तो कोई भी समझलेता है,
पर खामोशी कोई समझे तो मज़ा और है..

********

मेरी ख्वाहिश है कि मै फिर से फ़रिश्ता हो जाऊं
माँ से इस तरह लिपटू कि बच्चा हो जाऊ….

********

कभी मिल सको तो इन पंछियो की तरह बेवजह मिलना ए दोस्त

वजह से मिलने वाले तो न जाने हर रोज़ कितने मिलते है …..!!

********

मैं खुल के हँस रहा हूँ फकीर होते हुए
वो मुस्कुरा भी ना पाया अमीर होते हुए…

********

भूल जाना उसे मुश्किल तो नहीं है लेकिन
काम आसान भी हमसे कहाँ होते हैं!

*******

गुज़र गया वो वक़्त जब तेरी हसरत
थी मुझको,

अब तू खुदा भी बन जाए तो भी तेरा सजदा ना करूँ…

******

गिला शिकवा ही कर डालो कि कुछ वक्त कट जाए..!!

लबों पे आपके ये खामोशी अच्छी नहीं लगती..!!

********

समझौतों की भीड़-भाड़ में सबसे रिश्ता टूट गया
इतने घुटने टेके हमने आख़िर घुटना टूट गया…

********

आँखों में ना हमको ढूंढो सनम; दिल में हम बस जाएंगे;

तमन्ना है अगर मिलने की तो; बंद आँखों में भी हम नज़र आएंगे!

********

जिंदगी देने वाले , मरता छोड़ गये, अपनापन जताने वाले तन्हा छोड़ गये,

जब पड़ी जरूरत हमें अपने हमसफर की, वो जो साथ चलने वाले, रास्ता मोड़ गये”

********

आरज़ू होनी चाहिए किसी को याद करने की,

लम्हें तो अपने आप ही मिल जाते हैं।

**********

हालात की दलील देकर उन्होनें साथ छोङ़ा , तो हम आहत नहीं हुए ….,
सोचा हमसे ना सही , चलो किसी से तो वफ़ा निभाई उन्होने…

********

“ऐसा नही है कि मुझमे कोई ‘ऐब’ नही है..

पर सच कहता हूँ मुझमें ‘फरेब’ नहीं है ..!”

********

“ज़िन्दगी ने आज कह दिया है मुझे,
किसी और से प्यार है,

मेरी मौत से पूछो,
अब उसे किस बात का इंतज़ार है.”

********

“दोस्ती तो एक झोका हैं हवा का, दोस्ती तो एक नाम हैं वफ़ा का…,

औरो के लिए चाहे कुछ भी हो,
हमारे लिए तो दोस्ती हसीन तोफा हैं खुदा का.”

********

घर से तो निकले थे हम ख़ुशी की ही तलाश में,

किस्मत ने ताउम्र का हमैं मुसाफिर बना दिया।

*******-**

उन्हें नफरत हुयी सारे जहाँ से ,

अब नयी दुनिया लाये कहाँ से…!

********

आँखों में ना हमको ढूंढो सनम; दिल में हम बस जाएंगे;

तमन्ना है अगर मिलने की तो; बंद आँखों में भी हम नज़र आएंगे!

********

जब भी बारिश की आस करते हैं
कहर- की -आग- बरस- जाती है
जब– भी- तेरा- दीदार- न- पाए
आँख -खुलते- ही- तरस जाती है…

******

तू मेरे जनाज़े को कन्धा मत देना
,
कही ज़िन्दा ना हो जाऊँ फिर तेरा सहारा देख कर …

*******

दीं सदायें जिंदगी ने मैं ही सुन पाया नहीं,

ख्वाब आँखों में बहुत थे कोई बुन पाया नहीं।

********

दिल भी एक जिद पर अड़ा है किसी बच्चे की तरह,

या तो सब कुछ ही चाहिए या कुछ भी नही…..

********

वो अपने मेहंदी वाले हाथ मुझे दिखा कर रोई,
अब मैं हुँ किसी और की, ये मुझे बता कर रोई,

पहले कहती थी कि नहीं जी सकती तेरे बिन,
आज फिर से वो बात दोहरा कर रोई…

कैसे कर लुँ उसकी महोब्बत पे शक यारो…!!
वो भरी महफिल में मुझे गले लगा कर रोई…

*******

जिस दिन अपना एक्का चलेगा ना उस दिन
बादशाह
तो क्या उसका बाप भी अपना गुलाम होगा

********

“दोस्त ने दोस्त को, दोस्त के लिए रुला दिया,क्या हुआ जो किसी केलिए उसने हूमें भुला दिया,हम तो वैसे भी अकेले थेअच्छा हुआ जो उसने हमे एहसास तो दिला दिया.

********

मौत का आलम देख कर तो ज़मीन भी दो गज़ जगह दे देती है…

फिर यह इंसान क्या चीज़ है जो ज़िन्दा रहने पर भी दिल में जगह नहीं देता…

********

अगर है दम तो चल डुबा दे मुजको,

समंदर नाकाम रहा, अब तेरी आँखो की बारी..

********

शायद ख़ुशी का दौर भी आ जाये एक दिन….

गम भी तो मिल गए थे तमन्ना किये बगैर… !

********

“दोस्तों की कमी को पहचानते हैं हम,
दुनिया के गमो को भी जानते हैं हम,

आप जैसे दोस्तों का सहारा है,
तभी तो आज भी हँसकर जीना जानते हैं हम.”

*******

जब से पता चला है, की मरने का नाम है ‘जींदगी’;

तब से, कफ़न बांधे कातील को ढूढ़ते हैं!”

*******

तुम जैसा मुझे… कोण? कब???
कहा?? और कैसे??? मिलेगा ??
सोचो…
बताओ…
वरना मेरे हो जाओ ………………………!!”

*********

रात सारी तड़पते रहेंगे हम अब ,

आज फिर ख़त तेरे पढ़ लिए शाम को”

********

अपने कदम के निशान मेरे रास्तो से हटा दो

कही ये न हो कि मैं चलते चलते तेरे पास आ जाउ….

*********

कभी हक़ीक़त में भी बढ़ाया करो ताल्लुक़
हमसे,

अब ख़्वाबों की मुलाक़ातों से तसल्ली नहीं होती..!!

*********

जिंदगी भर के इम्तिहान के बाद …..
वो शख्स
नतीजे में किसी और का निकला ..

*********

मोहब्बत उसे भी बहुत है मुझस

जिंदगी सारी इस वहम ने ले ली…

*********

“बादशाह तो में कहीं का भी बन सकता हूँ
पर तेरे दिल की नगरी में हुकूमत करने
का मज़ा ही कुछ अलग है………”

********

दुआ करते है आपको किसी बात का गम ना हो…
आपकी आँखे किसी बात पर कभी नम ना हो…
हर रोज मिले आपको एक नया दोस्त…
पर…
किसी मेँ हमारी जगह लेने का दम ना हो…

*********

तुम क्या हो मेरे कुछ हो या कुछ भी नहीं मगर..

मेरी ज़िन्दगी की काश में एक काश तुम भी हो…

********

नये कमरों में ये चीज़ें पुरानी कौन रखता है
परिंदों के लिए शहरों में पानी कौन रखता है

*******

नफरतों को जलाओ मोहोब्बत की रौशनी होगी..

वरना- इंसान जब भी जले हैं ख़ाक ही हुए है..!

********

पहली मुलाकात थी और हम दोनों ही बेबस थे,
वो अपनी जुल्फें न संभाल पाए और हम खुद को…

********

नहीं चाहिए कुछ भी तेरी इश्क़ कि दूकान से,

हर चीज में मिलावट है बेवफाई कि..!!!!

********

काश तुम मौत होती तो…………. ….
एक दिन मेरी जरूर होती …………… ….‼

********

झूठ बोलने का रियाज़ करता हूँ , सुबह और शाम मैं … !

सच बोलने की अदा ने हमसे , कई अजीज़ ‘यार’ छीन लिये ….!!!!

********

आप रूठा ना करो यू हमसे, मेरे दिल की धड़कन बढ़ जाती है,

दिल तो आपके नाम कर चुका हु, जान बस बाकि है, वो भी निकल जाती है |

**********

खुशबू बनकर गुलों से उड़ा करते हैं, धुआं बनकर पर्वतों से उड़ा करते हैं,

ये कैंचियाँ खाक हमें उड़ने से रोकेगी, हम परों से नहीं हौसलों से उड़ा करते हैं.

*********

बुला कर तुम ने महफ़िल में हमें ग़ैरों से उठवाया

हमीं ख़ुद उठ गए होते इशारा कर दिया होता…

*********

तूने हसीन से हसीन चेहरो को उदास किया है….
ए इश्क ….

तू अगर इन्सान होता तो तेरा पहला कातिल मै होता ।

*********

दोड़ती भागती दुनिया का यही तौफा है,

खूब लुटाते रहे अपनापन फिर भी लोग खफ़ा है

*********

ना आना लेकर उसे मेरे जनाजे में, मेरी मोहब्बत की तौहीन होगी,

मैं चार लोगो के कंधे पर हूंगा, और मेरी जान पैदल होगी.

********

मुझसे जब भी मिलो तो नज़रें उठा के मिला करो,

मुझे पसंद है अपने आप को तेरी आँखों में देखना …..”

**********

“वो जो हमसे नफरत करते हैं,
हम तो आज भी सिर्फ उन पर मरते हैं,

नफरत है तो क्या हुआ यारो,
कुछ तो है जो वो सिर्फ हमसे करते हैं।”

********

“शौक तो माँ-बाप के पैसो से पूरे होते हैं..,

अपने पैसो से तो बस ज़रूरतें ही पूरी हो पाती हैं.

*********

हमारे चले जाने के बाद, ये समुंदर भी पूछेगा तुमसे,

कहा चला गया वो शख्स जो तन्हाई मे आ कर,
बस तुम्हारा ही नाम लिखा करता था…

*********

ना हम रहे दील लगाने के क़ाबील,
ना दील रहा गम उठाने के क़ाबिल,

लगा उसकी यादों सेे जो ज़ख़्म दिल पर,
ना छोड़ा उस ने मुस्कुराने के क़ाबील.

*********

जाते वक़त उसने बड़े गुरुर से कहा था –
तुझ जेसे लाखो मिलेगे.

मैंने मुस्कराकर पूछा : मुझ जेसे कि तलाश ही क्यों ?

*********

टूटे हुए गिलास में जाम नहीं आता, इश्क के मरीजों को आराम नहीं आता,

दिल तोड़ने से पहले सोचा तो होता, टुटा हुआ दिल किसी के काम नहीं आता ….

********

हमें ए दिल कहीं ले चल … बड़ा तेरा करम होगा

हमारे दम से है हर गम …न होंगे हम और ना गम होगा

*********

बुलबुल बैठा पेड पर मैने सोचा तोता है।
यारा तेरे प्यार मे दिल ये मेरा रोता है।

********

कच्ची दीवार हूँ ठोकर ना लगाना मुझको
अपनी नज़रों में बसा कर ना गिराना मुझको
वादा उतना ही करो जितना नीभा सकते हो
ख़्वाब पूरा जो न हो वो न दीखाना मुझको

********

उस शख्स को पाना इतना मुश्किल भी नही मेरे दोस्त..

मगर जब तक दूरी न हो मुहब्बत का मजा नही आता..

********

इतनी पीता हू की मदहोश रहता हू.
सब कुछ समझता हू पर खामोश रहता हू

जो लोग करते ह मुझे गिराने की कोशिश
मे अक्सर उन्ही के साथ रहता हू|

*********

कभी ये लगता है अब ख़त्म हो गया सब कुछ

कभी ये लगता है अब तक तो कुछ हुआ भी नहीं

*********

अपने हसीन होंठों को किसी परदे में छुपा लिया करो

हम गुस्ताख लोग हैं नज़रों से चूम लिया करते हैं

********

सुबह का हर पल ज़िंदगी दे आपको
दिन का हर लम्हा खुशी दे आपको
जहा गम की हवा छू कर भी न गुज़रे
खुदा वो जन्नत से ज़मीन दे आपको

********

कुछ लोग मेरी शायरी से सीते हैं अपने जख्म,

कुछ लोगों को मैं चुभता हूँ सुई की नोक के जैसे ।

*********

एहसान नहीं है जिन्दगी तेरा मुझ पर ,
मैंने हर सांस की यहाँ कीमत दी है।।

*********

अपनो को दूर होते देखा ,
सपनो को चूर होते देखा !

अरे लोग कहते हैँ की फूल कभी रोते नही ,
हमने फूलोँ को भी तन्हाइयोँ मे रोते देखा !

*********

सिर्फ एहसास होता है चाहत मे, इकरार नहीं होता.
दिल से दिल मिलते हैं मोह्हबत में इंकार नहीं होता.

ये कब समझोगे मेरे दोस्तों, दिल को लफजों की जरूरत नहीं होती.
ख़ामोशी सबकुछ कह देती है प्यार में इज़हार नहीं होता

*********

तेरी आरज़ू मेरा ख्वाब है…
जिसका रास्ता बहुत खराब है…

मेरे ज़ख़्म का अंदाज़ा ना लगा…
दिल का हर पन्ना दर्द की किताब है…

*********

काटो के बदले फूल क्या दोगे…
आँसू के बदले खुशी क्या दोगे…

हम चाहते है आप से उमर भर की दोस्ती…
हमारे इस शायरी का जवाब क्या दोगे?

*********

ग़ज़ल लिखी हमने उनके होंठों को चूम कर,

वो ज़िद्द कर के बोले… ‘फिर से सुनाओ’…..!!”

*********

वो फिर से लौट आये थे मेरी जिंदगी में’ अपने मतलब के लिय

और हम सोचते रहे की हमारी दुआ में दम था !

*********

रात क्या ढली कि सितारे चले गये, गैरों से क्या कहें हम जब अपने ही चले गये,

जीत तो सकते थे हम भी इश्क की बाज़ी, पर तुम्हे जितने के लिए हम हारते चले गये….

*********

तेरा उलज़ा हुआ दामन मेरी अंजुमन तो नहीं,
जो मेरे दिल में है शायद तेरी धड़कन तो नहीं,

यू यकायक मुजे बरसाद की क्यों याद आई,
जो घटा है तेरी आँखों में वो सावन तो नहीं.

*********

इक उम्र गुज़ार दी हमने,रिश्तों का मतलब समझने में,,

लोग मसरूफ हैं…..
मतलब के रिश्ते बनाने में.!!!!

*********

भीगी आँखों से मुस्कराने में मज़ा और है,
हसते हँसते पलके भीगने में मज़ा और है,

बात कहके तो कोई भी समझलेता है, पर खामोशी कोई समझे तो मज़ा और है..

*********

ना मुलाक़ात याद रखना, ना पता याद रखना,
बस इतनी सी आरज़ू है, मेरा नाम याद रखना..

*********

हमारे बाद अब महफ़िल में अफ़साने बयां होंगे
बहारे हमको ढूँढेंगी ना जाने हम कहाँ होंगे
ना हम होंगे ना तुम होंगे और ना ये दिल होगा फिर भी
हज़ारो मंज़िले होंगी हज़ारो कारँवा होंगे

********

काश वो नगमे सुनाए ना होते
आज उनको सुनकर ये आँसू आए ना होते

अगर इस तरह भूल जाना ही था
तो इतनी गहराई से दिल्मे समाए ना होते….

**********

मे तोड़ लेता अगर तू गुलाब होती
मे जवाब बनता अगर तू सबाल होती

सब जानते है मैं नशा नही करता,
मगर में भी पी लेता अगर तू शराब होती!

*********

ज़ख़्म जब मेरे सीने के भर जाएँगे;
आँसू भी मोती बनकर बिखर जाएँगे;
ये मत पूछना किस किस ने
धोखा दिया;
वरना कुछ अपनो के चेहरे उतर जाएँगे।

**********

आपने अपनी आंखो में नूर छुपा रखा है, होश वालों को दीवाना बना रखा है,

नाज कैसे ना करूं आपकी दोस्ती पर, मुझ जैसे नाचीज को ‘खास’ बना रखा है |

**********

यहाँ हर किसी को, दरारों में झाकने की आदत है,

दरवाजे खोल दो, कोई पूछने भी नहीं आएगा…!!

*********

किसी शायर ने कहा ज़िंदगी एक लंबा सफ़र है,
किसी आशिक़ ने कहा ज़िंदगी एक मुश्किल पहेली है,

अरे दोस्तो ज़िंदगी का अर्थ तो सिर्फ़ वो बता सकता है,
जिसकी शादी के बाद भी कोई अफैर है!!!

*********

उतरे जो ज़िन्दगी तेरी गहराइयों में।
महफ़िल में रह के भी रहे तनहाइयों मे

इसे दीवानगी नहीं तो और क्या कहें।
प्यार ढुढतेँ रहे परछाईयों मेँ।

***********

प्यार बारिश का नाम नहीं जो बरसे और थम जाये
प्यार सूरज नहीं जो चमके और डूब जाये

प्यार तो नाम है साँसों का जो चले तो ज़िन्दगी और रुके तो मौत बन जाये….

*********

ज़िंदगी की हर एक उड़ान बाकी है
हर मोड़ पर एक इम्तिहान बाकी है

अभी तो सिर्फ़ आप ही परेशान है मुझसे
अभी तो पूरा हिन्दुस्तान बाकी है…

*********

हमने दिल जो वापीस मांगा तो सिर जुका के…
बोले
वो तो टुंट गया युहि खेलते खेलते…….

********

नदी को सागर से मिलने से ना रोको,
बारिस की बूंदों को धरती से मिलने से ना रोको,

जिन्दा रहने के लिए तुमको देखना जरुरी है,
मुझे तुम्हारा दीदार करने से ना रोको….

**********

मेरा बस चले तो तेरी अदाँए खरीद लुँ
अपने जीने के वास्ते, तेरी वफाँए खरीद लुँ

कर सके जो हर वक्त दीदार तेरा
सब कुछ लुटा के वो निगाँहें खरीद लुँ

*********

हम वो नहीं जो दिल तोड़ देंगे;
थाम कर हाथ साथ छोड़ देंगे;

हम दोस्ती करते हैं पानी और मछली की तरह;
जुदा करना चाहे कोई तो हम दम तोड़ देंगे।

*********

मंजीले मुश्किलथी पर हम खोये नहीं…
दर्द था दिल में पर हम रोये नहीं…

कोई नहीं आज हमारा जो पूछे हमसे…
जाग रहे हो किसी के लिए..या किसी के लिये सोये नहीं…

********

दिल रोज सजता है, नादान दुल्हन की तरह..!!

गम रोज चले आते हैं, बाराती बनकर..!!

********

ज़िंदगी उसी को आज़माती है,
जो हर मोड़ पर चलना जानता है.

कुछ पाकर तो हर कोई मुस्कुराता है,
ज़िंदगी उसी की होती है जो सब खोकर भी मुस्कुराना जानता है.

******

मै उसको चाँद कह दू ये मुमकिन तो है
मगर
लोग उसे रात भर देखें ये मुझे गवारा नहीं…..।

********

“दिल की बात दिल में छुपा लेते हैं वो,
हमको देख कर मुस्कुरा देते हैं वो,

हमसे तो सब पूछ लेते हैं,
पर हमारी ही बात हमसे छुपा लेते हैं वो|”

*********

तलाश मेरी थी और भटक रहा था वो,
दिल मेरा था और धडक रहा था वो,

प्यार का ताल्लुक अजीब होता है,
प्यास मेरी थी और सिसक रहा था वो.

**********

‘तू’ डालता जा साकी शराब मेरे प्यालो में…

जब तक ‘वो’ न निकले मेरे ख्यालों से ।।।

*******

अजनबी ख्वाहिशें सीने में दबा भी न सकूँ
ऐसे जिद्दी हैं परिंदे के उड़ा भी न सकूँ

फूँक डालूँगा किसी रोज ये दिल की दुनिया
ये तेरा खत तो नहीं है कि जला भी न सकूँ

**********

ये बारिश भी तुम सी है,
जो थम गई तो थम गई,
जो बरस गई तो बरस गई,
कभी आ गई यूँ ही बेहिसाब,
कभी थम गई बन आफ़ताब,
कभी गरज गरज कर बरस गई,
कभी बिन बताये ही गुजर गई,
कभी चुप सी है,
कभी गुम सी है,
ये बारीशें भी सच…तुम सी है!!!…

********

“उसका इल्जाम है वह लगातार ताकता है मुझे

लेकिन यह तो बता की ‘ मै ताकता हूँ’
यह पता कैसे चला तुझे”

*********

तेरे चेहरे को कभी भुला नहीं सकता,
तेरी यादों को भी दबा नहीं सकता,
आखिर में मेरी जान चली जायेगी,
मगर दिल में किसी और को बसा नहीं सकता.

*********

पकाई जाती है रोटी जो मेहनत के कमाई से,

हो जाए गर बासी तो भी लज्ज़त कम नहीं होती,

*********

तेरे पास भी कम नहीं, मेरे पास भी बहुत हैं,
ये परेशानियाँ आजकल फुरसत में बहुत हैं …………

*********

“दील से लिखी बात दील को छू जाती है,
ये अक्सर अनकही बात कह जाती है,

कुछ लोग दोस्ती कॆ मायनॆ बदल दॆतॆ है,
और कुछ लोगो कि दोस्ती सॆ दुनिया बदल जाती है.”

*********

मेरे लफ़्ज़ों से न कर मेरे क़िरदार का फ़ैसला।।

तेरा वज़ूद मिट जायेगा मेरी हकीक़त ढूंढ़ते ढूंढ़ते।।

*********

सुलाके सबको गहरी नींद में …

फिर अकेला क्युं अंधेरा जागता है!!!!!!

**********

जो भी आता है एक नयी चोट दे के चला जाता है
ए दोस्त ,
मै मज़बूत बहोत हु लेकिन कोई पत्थर तो नहीं .!..

*********

अगर हमारी उल्फतों से तंग आ जाओ
तो बता देना दोस्त,

हमें नफरत तो गवारा है मगर दिखावे की मुहब्बत नहीं…

**********

“एक बार उसने कहा था मेरे सिवा किसी से प्यार ना करना,

बस फिर क्या था तबसे मोहब्बत की नजर से हमने खुद को भी नहीं देखा”

********

ना नमाज़ आती है मुझे, ना वज़ू आता है,
सज़दा कर लेता हूँ जब सामने तू आती है…

*********

दुआ करते है आपको किसी बात का गम ना हो..
आपकी आँखे किसी बात पर कभी नम ना हो…

हर रोज मिले आपको एक नया दोस्त…
पर…
किसी मेँ हमारी जगह लेने का दम ना हो…

*******

#ChetanThakrar

#+919558767835

 

ટૅગ્સ:

Shayri part 4


Laakh Samjaya k Shak Karti He Ye Duniya…!

Magar Na Gai Uski AAdat Hans Kar Guzr Jane Ki…

*******

Isse acha hum chand se mohbbat kar lete …!

Lakh dur sahi par dikhai to deta hai…!

*******

Is Baarish Kay Mausam Main Ajeeb Si Kashish Hai

Na Chahte Howay Bhi Koi Shidat Say Yaad Aata Hai….…

*******

Dushman Ho, To Ishq Jesa

Seedha Dil Per, Waar Kare..

*******

Mila Tha Ek Dil Jo De Diya Tum Ko…

Hazaroon Bhi Hote To Tere Liye Hote…

********

Kaun kahta hai
mohabat ek baar hoti hai..
main tujhe jitni baar dekhun mujhe utni baar hoti hai.

*******

tasavur main zaroor aoo,magar tairna to seekho …

tum aksar doob jatay ho mere ashkoon k pani main …

********

karo phir se koi wadda ,kabhi na phir bichhadne ka ….

tumhein kaya faraq padta hai chalo phir se mukkar jana …

********

Mere Liye Na Sahi In K Liye aa Jao,,,,,,,

“Tum Se Bepanah Mohabat Karti Hain Ye AAnkhen……….!!

********

Tumhare jane k baad kaun rokta humein……….!!

so jee bhar k khud ko barbaad kya..!!

********

Tumhare sath dekhi thi warna zindagi mujhko

na tab mehsoos hoti thi na ab mehsoos hoti hai…

*******

Na karo takraar, mujhe tumhara hi khayaal hai,

Phir baat se baat nikle gi, aur tum rooth jaoge..!!

********

Auron se to umeed ka rishta bhi nahi tha….

Tum itne badal jao gay socha bi nai tha…..

********

Nazar bacha ke guzarna hai to guzar jao,

Main aaina hoon meri apni zimmedari hai. . !!

********

Zuban khamosh hai lekin meri aankhon mein likkha hai !

ki haal-e-dil padha jaata hai, batlaaya nahi jaata !!

********

Ek Hum Hain Jo Tere Baad Naa Jee Paaye’n Ge

Aik Tum Ho Ke Naya Ishq Karo Ge, Kal Se….!!!

********

Muskurana Toh Meri Shaksiyat Ka Ek Hissa Hai E Dost…

Tum Mujhe Khush Samajhkar Duaon Mein Bhool Mat Jaana…

********

Tere ehsas ne hume aisa nasha diya…

ab sharab se narfat see hogayee…

*******

Juda Ho Kr Bhi Dono Jee Rahe Hein ek Muddat Se

Kabhi Dono Hi Kehte The Judai Maar DaLe Gi..

********

Kaanch sa jism kahin toot na jaye,

Husn waley teri angrrayi se dar lagta hai..

********

Jo guzaari na ja saki hum se,
Hum ne woh zindagi guzaari hai..

*******

Jise khud se hi nahin furstain,
Jise khayal apne kamaal ka,
Usey kya khabar mere shoq ki,
Usey kya pata mere haal ka..

********

Bohat Khush Qismat Hain wo Log Yaqeen Jano…!!!

Jo Mangty B Nahi, Rotay B Nahi,Or Muhabbat Paa letay Hain….!!

********

Ulfatein, Uljhanein, Ranjishein aur Thakawat,

Bas Yu’n hi ek Din aur Beet Gaya Zindagi Ka . . .

********

Kis Liye Dekhti Ho Aaina..!!!!!

Tum To Khud Se Bhi Jyada Khubsurat Ho…

********

Zindagi me khushi tere aane se hai..

warna jeene me gum har bahane se hai..!

********

Chale to the doston ka kafila lekar… par kuchh juda ho gaye aur kuchh khuda ho gaye… kuchh gumshuda to kuchh shadishuda ho gaye

********

Kon kehta hain peene wale mar jaate hain bhari jawani mein???

Hum ne toh dekha hai buzurgon ko jawan hote hue maikhane mein…!!!

********

Dunyan Kiitni Choti Hai Na?

Tum Pe Aa K Ruk Si Gayyii Hai…

********

Qadar karni hai tho jiteji karo,

Kafan uthane ke waqt to Nafrat karne waley bi Ro padte hain..

********

Kamaal ka Tana Diya Kisi Ne Mujhe Aaj,

Agar Woh Tera Hai Toh Tere Paas Kyon Nahin …

********

kon kehta hai ki aadmi apni kismat khud likhta hai..

agar ye sach hai toh kismat me dard kon likta hai…

********

Suna hai mil jaata hai sab kuch dua se,

Milti ho khud, Ya mangu KHUDA se?

********

Wajah poochhne ka to mauqa hi na mila bus !!

Woh lehjah badalty gaye aur hum ajnabi hoty gaye…

********

Kis k Ho…?
Bus Tumhari Hun,

Tere Ye alfaaz..
Kitny Pyare hain..

********

Mere Jism Se Uski Khushbu Aaj Bhi Aati He…

Main Ne Fursat Mein Kabhi Seeny Se Lagaya Tha Usay..

********

Aakhir Kaise Bhula De Hum Unhein…!!

Maut Insano Ko Aati Hai’ Yaadon ko Nahi…!!

*******

Muhabbat Or Wafa Ki Sada Se Dushmani Hai…………..,

Na Wafa Se Mohabbat Milte Hai Na Mohabbat Se Wafa…

********

Raaz kisi ko Na Batao To ik bat kahun,

Hum Rafta Rafta Tere Hote ja Rahe Hain…

********

Tu Zindagi Me Sub Se Azeez Hai Hume

Tujhse Har Baar Ye Kehna Bhool Jaate Hain..

********

Koi Nahi Yaad Karta Wafa Karne Waley Ko….!!

Meri Maano Bewafa Ho Jaao’ Zamana Yaad Rakhega…!!

********

Saari dunyia badal gayee janaa

Tere taiwar magar nahi badley..

*******

Haan main tumhe bhula na saka..

kabhi dil ne ijazat he na di….

********

Log Shameel The Aur Bhi Laikin..

Dil Teri Kosishoon Se Toota Hai…

*******

Koshish o Ke Bawajood b Jo Mukammal Na Ho Saken,

Tera Naam Bhi Unhin Khwahishon Mein Hai…..

********

Hum Ne Khud Me Tumko Peroya Hai Ek Tasbeeh Ki Tarha..

Agar Hum Toot gaye To Bikhar Tum Bhi Jao Ge…

********

Tere Bin Kuch Be-Chain Sa Rehne Laga Hun,

Kambakht Ashk Bhi Tujhse Milne Nikal Parte Hain..

********

Bataaon tumhe kahaani udaas logon ki,?

Kabhi ghaur karna yeh hanstey bohat hain..

********

Muhabat Jeet Jayegi……….. Agar Tum Maan Jao To,

Mere Dil Main Tumhi Tum Ho Yeh Akhir Jan Jao To…

********

KHushk tinkon se ghar bana rahe ho”…

Ye jante bhi ho mizaaj-e-Yaar AAG jesa hai…

********

Woh Jo Bichra Tu Main Ne Jana

Log Mar Kar Bi Jiya Kartey Hai’n..!!

********

Jo Dil Ke Aainey Mein Ho,
Wohi Hai Pyaar Ke Qaabil

Warna Dewaar Ke Qabil To Har Tasveer hua karti Hai …

********

Toot sa gaya hai meri chahato ka wajood…

Ab koi achchha b lage to ham izhaar nahi karte…

********

Shikway Shikayatou’n ki Nahi..Yeh Zarf Zarf Ki Baat He..

Tere Vehm-O-Guma’n Mei’n Bhi Hum Nahi,Aur Tu Lafz Lafz Hamai’n Yaad Hy…….

********

Yun To Har Rang Ka Mousam Mujhse Waqif Hai Magar,

Raat-E-Tanhaiyan Mujhe Kuch Alag Hi Janti Hain…

********

Sach He, Insaan Ki Khwahisho Ki Koi Had Nhi……

Meri Un’ginat Khwahishe Dekho Wo,Wo Or Bas Wo……

********

Nam Hai Palkain Teri Ae Moj-e Hawa Raat Ke Saath

Kya Tuje Bi Koi Yad Aata Hai Barsat Ke Sath..

*******

Is Baarish Ke Mausam Main Ajeeb Si Kashish Hai ….

Na Chahte Hue Bhi Koi Shiddat Se Yaad Aata Hai….…

*******

Rim Jhim Rim Jhim Baras Rahi Hai …
Yaad Tumhaari Qatraa Qatraa…

********

Jo Mujh se Tooti Thi Wo chorriyan Sasti Thii…..

Bahut mehnga Tha woH Dil Jo Tu Ne Tod Dala…..

********

Nahi Milega Mujh Jaisa Tujhe Chahne Waala. . .!!

Jaa Tujhe Ijaazat Hai Saari Duniya Aazma Le. . .!!!

********

Anjaam Ki Parwa Hoti To Me Ishq
karna Chhod Deta”

”Ishq Me Zid Hoti He Or Zid ka Me Betaaj Badshah Hun….”

*******

Ishq ka samandar bhi kya samandar hai,,

jo doob gaya wo aashiq jo bach gaya wo deewana………

********

Karo phir se koi wada ,kabhi na phir bichhadne ka ….

tumhein kya faraq padta hai chalo phir se mukkar jana …

********

Chal chup kar , uss ki gawahiyyan , saffaiyyan …

Tu mera DIL he ya USS bewafa ka wakeel ….!!!

********

Meri khamoshi tumhen rulaiy gee…

Zara yeh waqat beat jany do….!!

********

Auron se to umeed ka rishta bhi nahi tha….

Tum itne badal jao gay socha bi nai tha…..

********

Darpok hai woh log, Jo pyaar nahi karte.

Saala barbad hone ke liye bhi jigar chahiye…

*******

Phool yuhi nahi khilte,

beej ko dafan hona padta hai …

********

Chahat, Fikar, Taqdeer, Isqh-Mohabbat, Or Wafa…

‪Meri In Hi Adaton Ne Mera Tamasha Bana Diya…

********

Muhabbat ki haqeeqat mein ..

Khamooshii aakhri sach hai…

********

Har koi Deta Hai Zakham Gin Gin ke ‘Be-Wajha’….!!

Mein Kis kis Zakham Ko Apna Naseeb Samjhoon…!

********

Sikha Di Bewafai Tumhe B Zalim
Zamane Ne..!!

Tum Jo Seekh Lete Ho, Hum Hi Pe Azmate Ho..

*******

​Taqdeer Ka Hi Khel Hai Sab….. ,
Par ,
Khwahishe’n Samjh’ti Hi Nahi……!!!

********

Mujh se mat poch mere mehboob ki sadgi…

Nazren bhi mujh pe thi or parda bhi mujh se tha…

********

Maine Tum se Tumhe Manga,
To Tum Muskura Diye…

Tum Ye Bhi To Keh Sakte The,
Ki Apni Cheezain Manga Nahi Karte..

********

Seene Mein Dhadak ta Jo Hissa Hai………

Uss’i Ka Toh Yeh Sara Qissa Hai……!!!!!

********

Jaruri nahi ki kaam se hi insan thak jaye ,

Khayalo ka boj bhi insan ko thaka deta hai…

********

Sathi Ho Agar Tum Sa….To Manzil ki Tamanna Kya?

Hum Ko to Safar Pyara…Manzil Ko Khuda Hafiz”…!!

*******

Muje Nahi Pata..,Ye Sudhar Gaya Ya Bigad gaya…

Bassss Ab Ye Dil kisi Se Muhaabat Nahi Karta. . .

*******

Meri aankhon mein apni kahaani dekh lo..

Kaajal mein lipti zindgaani dekh lo..

*******

Main kaun hoon yeh pata chal jaaye toh mujhe bhi bata dena.

Kaafi dinon se talash hai mujhe meri.

********

Meri likhi baat ko har koi samaj nahi paata..,

kyonki mein ehsaas likhta hoon aur log alfaz padhte hain…

*******

“Mere chehre ki chamak ho tum,
Meri Zindagi ki sabse anmol chiz,

Kya kahu mera sara jahan ho tum…..

********

Nahi Milti wafa ab un pyar ke rishto mein,

Dunya mein Logon k badal jane ki rasm Aam ho gai hai…

*******

Zaroori To Nahi Mohabbat Lafzon Me Bayan Ho,

Kya Sach Mein Meri Aankhen Tmhain Kuch Nahi Kehti !!!!!

********

Mein toh tere ehsaas se hee mehak gaya…

agar ishq hota toh mere khuda naa jane kaya hota……

********

Woh mere dil par rakh kar seer soi thi bekhabar..,

Hum ne dhadkan hi rok li …ki kahin uski neend naa toot jaaye..

********

“Khairaat Mein Mili Khushi Humen Acchi Nahi Lagti

Rehte Hain Hum Apne Dukhon Mein Nawaabon Ki Tarah…

********

Zakham Dene ki Aadat Nhi Humko,
Hum to Aaj b Wo Ehsaas Rakhte hai,

Badle-Badle to Aap Hai Janab,
Hamare Alawa Sabko Yaad Rakhte Hai…

*******

Hum To Samjhe The ke Zakham Hai Bhar Jayega..

Kya khabar Thi Ke Rog Dil ME Utar jayega..

********

Theek Likha Tha Mere Hath Ki Lakeeron Mei…

Tu Agar Pyar Karega To Bikhar Jayega..

********

Nigaho pe nigaho ke pehere hote hai. In nigaho ke ghav bhi gehere hote hai.

Na jane q koste hai log badsurato ko, Barbad karne wale to khubsurat chehre hote hai.

********

Mohabbat Kisi Se Tab Hi Karna
Jab Mohabbat Ko Nibhana Seekh
Lo…!!

Majburiyoon Ka Sahara Lekar Chhod Dena Wafadari Nahi Hoti…!!

********

Ajeeb Ristha Raha Kuch Is Tarha Apno Se Apna,

Na Nafrat Ki Waja Mili, Na Mohabbat Ka Sila…!!

********

Kabhi na kabhi wo mere bare me
sochengi zaroor…

Ki haasil hone ki ummid bhi nahi hai phir bhi pyaar karta hai mujse….

*******

Hai Chand Ka Muhn Bhi Utra Utra
Taro Ne Chamkna Chod Diya
Jis Din Se Juda Wo Humse Huye
Is Dil Ne Dhadkna Chhod Diya

********

Chale jaana chaahta hu tujhe tere haal par chhod kar,

Qaddar kyaa hoti hai pyaar ki tujhe waqt hi sikha dega..

********

Meri tadap toh kuch bhi nahi hai…

Suna hai uss ke deedar ko toh aainay bhi taraste hain..

*******

Tum Zindagi Mein Aa To Gaye Ho Khayal Rakhna,,

Hum Jaan To Dete Hain Magar Jane Nahi Dete..!

********

Tujhme Chhupe Hai Meri Jindagi Ke Hazaaro Raaz…

Tujhe Waasta Hai Pyaar Ka Zara Khud Ka Khayaal Rakhna…..

********

Teri Jheel Si Gehri Aankhon
Ko Jo Neel-E-Kanwal Keh Doon,

Duniya Jal Jayai Gi, jo Tujh Per Ghazal Keh Doon…

********

Shama bujhte hi ek naya fasana ban gaya,,

Tere saath beetaya hua ek lamha yaadgaar ban gaya!!!

********

Khamosh palkein ye izhaar karti hai,
Pyari baatein iqrar karti hai,
Ye saanse isliye saath hai hamare,
Kyuki ye bhi aapko bepanah yaad karti hai..

*******

Chalo So Jate Hain ab Phir Kisi Such ki Talash Me ,,

K Subha Phir is Jhooti Dunya Ka Deedar Karna Hai …!!

*******

Aap To Chand Ho Jise Sab Yaad Karte Hain,

Hamari Kismat To Sitaro Jaisi Hai, Yaad Karna To Door…

Log Apani Khwahish Ke Liye Bhi
Hamare Tootne Ka Intezar Karte Hain.

********

Kuch is liye raato ko sona chod diya hum ne……
Agar wo khwab me bhi bichad gaye to mar jayenge hum……

********

#ChetanThakrar

#+919558767835

 

ટૅગ્સ: