RSS

Monthly Archives: એપ્રિલ 2014

Shayri part 15


Pahle “TOOT Ke CHAHNA” or Fir Khud “TOOT Jana…Baat To Choti Si hai Dosto…Magar “JAANLEWA” Hai.

*********

Ek Mehboob Laaparwah Ek Mohabbat Bepanah..
!!
Dono kafi Hain Sukoon Brbad Karne Ko…

*********

Yeh maana k tumse na mil paayenge hum,
Magar yaad rakhna ki yaad aayenge hum.

*********

Pyar ka pahela khat likhne main vakt to lagata hai….
Naye parindo ko udne main vakt to lagta hai…..

Jism ki baat nahin thi…..unke dil tak jana tha….
Lambi duri tay karne main vakt to lagta hai……

*********

Mohabbat bewafa ke siwa kuchh bhi nahi,
Duniya gum ke siwa kuchh bhi nahi.

Unke pas hamare siwa sab kuchh hai,
Par hamare pas unke siwa kuchh bhi nahi.

********

Mujhe Hukam Hua Kuch Or Mang Us Ke Siwa,
Main Dast-e-Dua Se Uth Gaya Ke Mujhe Justaju Bus Usi Ki Thi.

********

Aaghaz-E-Mohabbat Ki Dastaan Mukhtasir Si Hai bas..

Daur-E-Jawaani Thi Aur Unki Aankhon Main Jhaank Bethe.

********

Koi Us Sa Nahe Hai In Dino..!

Wo Bhe Waisa Nahe Hai In Dino..!!

*********

June me kabhi holi nahi hoti,
May me kabhi diwali nai aati;
Koi pyar bhara dil roya hoga
Varna April me kabhi Barish nai hoti…

*********

Kisi se nafrat karne ki kahan
jarurat rahi hai aaj kal,

Log to pyar karne se bhi dushman ban jate hain…

********

“Bina Dard Ke Aansu Bahaye Nahi Jate
Bina Pyar Ke Rishte Nibhaye Nahi Jate”,

Zindagi Me Ek Baat Yaad Rakhna
Kisi Ko Rula Ke Apne Sapne Sajaye Nahi Jate.”

*********

“Dard Kitne Hain Bata Nahi Sakta
Zakhm Kitne Hain Dikha Nahi Sakta
Ankhon Se Samaj Sako To Samaj Lo, Ansu Gire Hain Kitne Gina Nahi Sakta.”

*********

Kitna adhura lagta hai jab badal ho aur barish na ho,
Zindagi ho per pyaar na ho,
Aankhe ho aur khawb na ho,
Koi aapna ho aur wo pass na ho.

********

Har Taraf Raah Main Thay Kaanty Bichay Huay…
Mujh Ko Teri Talab Thi, Guzarte Chale Gaye…

*********

Neend Bhi”Mashooq” Ban Gai…
Kambakht Raat Bhar Nahi Aati………!!

*********

Kuchh log kabhi bhi puraane nahi hote
Nayi yaade pahan kar, roj naye ho jaate hei..

*********

Huye barbad MaGar Phir Bhi Sudhar Na PayE Hum…..

Phir Wohi Shayari, Phir Wohi Ishq,Phir Wohi Tum….!!!

********

Log samjte hai k main tumhare husn par marta hun,
Agar tum bhi yahi samjte ho to suno, Jab husn kho do tab laut ana….!!!!

*********

Wafaaon se mukar jaana mujhe aaya nahi ab tak,
Jo waaqif na ho chahat se main unse zid nahi karta.

*********

Qaraar De Ke Kabhi Be-Qaraar Karte Ho..

Galey Laga Ke Kaho Kitna Pyar Karte Ho….

*********

Wafa me ab ye hunnar ikhtiyar karna hei
wo sach kahe na kahe, eitbaar karna hei..

*********

Ye alag baat hei ki khaamosh khade rahte hei,
fir bhi jo log bade hei wo bade hi rahte hei.

*********

Suna hei usne dil ko apne aabaad kiya hei
jo kiya, khub kiya.. lekin mere baad kiya hei..

********

Talash uski karo jo kisi ke paas na ho.
Bhula do use jis par vishwas na ho.

Hum to apne gamo par bhi hass padte hain.
Wo isliye ki samne wala udaas na ho.! ”

*********

Aye khuda itna bhi na akela kar mujhko ki doob javu tanhaio ke sagar mein,

Ek raah-e-humsafar toh de taki bhatak na javu tere iss Duniya naam Ke bhawar mein…!

*********

Diye jate ho Jo ye dhamki gaya to fir na aaungi….
Kahan se aaoge pehle meri chahat se jakar dikhao to…

********

Kisi Aur Ke Baho Me Rahakar Wo Humse Wafa Ki Bate Karte Hai, Ye Kaisi Chahat Hai Yaro, Wo Bewafa Hai Jankar Bhi, Hum Unhi Se Pyar Karte Hai.

*********

Sab Honge Yaha Magar Hum Na Honge,
Humare Na Hone Se Log Kam Na Honge,

Aise To Bahut Milenge Pyar Karne Wale,
Hum Jaise Bhi Milenge Magar Wo Hum Na Honge.

********

Jaane kyu log hame aajmate hai, Kuch pal sath rahne ke baad dur chale jate hai,

Sach hi kahte hai log ki sagar ke milne ke baad, Log barish ko bhul jate hai.

********

Duniya me jeene ki chahat na hoti Agar khuda ne mohabbat banayi na hoti,

Log marne ki aarzoo na karte Agar mohabbat me bewafai na hoti.

**********

Kabhi Na Aaye Mere Saath Chalke, Hamesha Gaye Muje Barbaad Karke.

Agar Kabhi Aa Jao Meri Mayaat Pe, To Keh Dena Abhi Soya Hai Tuje Yaad Karke.

*******

Do Dilo Ki Dhadkano Me Ek Saaz Hota Hai, Sab Ko Apni Apni Mohobbat Pe Naaz Hota Hai,

Us Me Se Har Ek Bewafa Nahi Hota, Us Ki Bewafai Ke Peeche Bhi Koi Raaz Hota Hai.

********

Kon kehta hai dost ki tumse humari judaai hogi,
yeh afwaah zroor kissi dushman ne udaayi hogi,

Shaan se rahenge tumahre dil mein hum,
itne dino mein kuch to jagah bnayi hogi…

********

Dil Kisi Se Tab Hi Lagana,
Jab Dilo Ko Padhna Sikh Lo,
Varna Har Ek Chehre Ki Fitrat Me Wafadari Nahi Hoti.

*********

Bas mitti ka libas odhne ki der hai hame aye dost,

Phir har shaks dhundega ankho me nami le kar.

*********

Aap to chand ho jise sab yaad karte hai,
Aur hamari kismat to taro jaisi hai.

Humein yaad karna to door…
Log apni khawahish ke liye
Hamare tutne ki dua karte hai…

*********

Mehkhane me jam tut jata he,
ishq me Dil tut jata he,
Na jane kya rishta hai in Dono me,
jam tute to ishq yaad Aata hai,
Dil tute to jam yaad Aata hai. . .

*********

Dekh yaha ke mahekte hue zakhmo ki bahaar,
Meine ab tak tere gulshan ko saja rakha hei.

*********

Lamho ko doulat se dono mahrum rahe,
muje churaana na aaya, tuje kamaana na aaya.

*********

Tangi-e-dil ka gila kya, ye wo qafir dil hei,
Ki agar tang na hota to pareshaan hota..

*********

Zinda rahne ke bahaane dhundhe aao,
kuchh dost puraane dhundhe…

********

Aankhe hui is qadar bejaan
Usne jajbaat ke sabut mange.

*********

Chhod diya humne uska deedar karna humesha ke liye.!!
Jisko humari nigah ki Qadar na ho use mud mud ke kya dekhna.!

**********

Aayina deta hei aheshaas adhure pan ka,
Tu jo mil jaaye to khud ko mukkamal samju.

*******

Masroof Rahne ka Andaaz Tujhe Tanha Na kar de,
AYE DOST….
Taaluqaat Fursat ke Nhi Tawajjo ke Mohtaaj Hote hai.

**********

Mere dil ki khamoshi par na jaao
ki isme rooh ki awaaz bhi hei..

*********

Kya khabar thi tere milne par kayaamat hogi,
mujko diwaana bana denge tere shaher ke log

*********

Hazaar gam meri fitrat badal nhi sakte
kya krun mujhe adat hai muskurane ki.

********

Ek Din Aisa Bhi Hoga Intezar Me Tere,,
Neend Aa Jayegi Darwaza Khula Reh Jayega..

***********

Mere jane ke baad kisi ko , fark to nai padega,

Bass tanhayi hi royegi, ki mera humsafar chala gya,,,

********

KaraeGa Qadar Zamana Hamari B Ek Din,
Bas Wafa Ki Buri Adat Choot Janey D0…!!

********

Mera khud se milne ko jee chaahta hei,
Kaafi kuchh suna hei meine apne baare me..

*********

Teri aankho se yu to saagar bhi piye hei hamne,
Tuje kya khabar judaai ke din keise jiye hei hamne…

*********

Haan !! Muhabbat tamaam
uspe hui……
Ab jo ho gi dillagi hogi…..

**********

Jo Dil Mai Reh Ke Bhi Mera Na Ban Saka

Aur Dil Wo Kaafir Jo Mujh Mein Rehker Bhi Tera Ho Gaya….!!

***********

“Jis Dil Mein Teri Chahat Thi,
Us Dil Ko Meine Tod Diya.

Badnaam Na Tujhe Hone Doon Ga, Isliye Tera Naam Hi Lena Chod Diya!”

*********

Unhe koi aur bhi chahe is bat se hum jalte hai,
Lekin faqar hai is bat ka k hamari pasand pe sab marte hai.

*********

Suna hai mohabbat me dil haathon me utar aata hai..

Tujhe kuch likhun to ayese dhadakti hain ungliyaan.

**********

Woh sagar nahi aansoo the mere, Jispar woh kashti chalate rahe.

Manzil mile unhe yeh aarzo thi meri,
Issliye hum aansoo bahate rahe.

*********

“Raat Gujri Phir Mehekti Subah Ayi
Dil Dhadka Phir Tumhari Yaad Ayi
Aanko Ne Mehsoos Kiya Uss Hawa Ko
Jo Tumhe Chhukar Hamare Pass Ayi.

**********

Ro ro ke pucha humse paon ke chalo ne…
Basti kitni dur basali DIL mein basne walone….!!

**********

Jalwey To Be’panah They Is Kainat Main

Ye Aur Baat Hai K Nazar Tum Pe Ruk Gai.

*********

Kuch Fitrat Hi Aisi Hui ki
Pyar Se Jeene Ki Surat Na Hui,
Jinhe Chaha Vo Mil Na sake,
Jo Mile Un Se Mohabbat Na hui..ii

***********

Mohobbat Me Teri fitrat Kya Thi,
Is Kadar Humse Nafrat Kya Thi,

Teri Chahat pe Wafa Ki Thi Maine,
Tujhe Bewafa Hone Ki Zarurat Kya Thi…..?

**********

Aankhon Ne Tujhe Dekha Tha Aur Dil Ne Pasand kiya……!!

Ae JAAN Meri….

Bataa Aankhein Nikaal Doon Ya DiL…..???

**********

Wo Kitna Meharban Tha Ke Hazaron Ghum De Gaya,
Hum Kitne Khud Gharz Nikle Kuch Na De Sakay Pyar Ke Siwa…

*********

Kisi aur ko pyar ham kaise de. Sara pyar toh wo le gayi hamse..

********

Gunah karke saja se darte hai,
zehar pikar dua se darte hai,
dushman ke sitam ka khof nahi,
ham to dost ke khafa ho jane se darte hai.

********

“Kya mangu khuda se apko pane ke baad,
Kiska karu intzar aap ke ane ke baad,
Kyu dosti pe jaan luta dete hai log,
Malum hua apko dost banane ke baad….”

*********

Koi rasta nahi dua k siwa.
Koi sunta nahi khuda k siwa !
Maine bhi zindagi ko karib se dekha hai mere dost.
Mushkil mein koi sath nahi deta,
Beer, Vodka & Whisky ke siwa.

********

Tute Dil K Tukde Jud Nahi Pate
Dil Me Daag Ho To Dhul Nhi Pate
.

Taklif Ye Nhi Ki Ap Hme Yad Nahi Krte,
Taklif Ye He Ki Hum Apko Bhul Nahi Pate….

********

Jane kyu eitraaz tha use meri zindagi se
Wo jab bhi mushkuraye, palat ke mushkuraye..

*********

Badi muahkil se banaa hu tut jaane ke baad,
Mei aaj bhi ro deta hu mushkurane ke baad..

********

Kabir ka latest doha:
Miss u miss u sab kahe,
Par actually miss kare na koe,
Agar koe kisi ko really miss kare,
To fir SMS band Q hoe!!!

*******

Mere chehre se sawaal karta hai…
Aaina bhi ab aaina nhi raha…….

*********

Tanhaiyo me muskurana ishq hai,
ek baat ko sab se chhupana ishq hai,

Yu to nind nahi aati hume rat bhar,
magar sote sote jagna or jagte jagte sona ishq hai..

********

Saans lene se teri yaad aati hai, yaad aanese meri jaan jaati he kaise kah du k sirf saans se zinda hu………saans bhi to teri yaad ke baad aati he……..

**********

Aye Zindagi Mujhe Tod Ke, Aisy Bikhero Ab Ki Baar…,

Na Khud Ko Jorr Paun Main, Na Phir Se Tor Payen Wo.

********

Kisi ki raah mein aankhen bicha kar kuch nahi milta..

Yeh duniya bewafa hain, Dil laga kar kuch nahi milta..

********

Kis tarah Khatam Kar Sakta Hu Main Unse Rishta.
Jisko Dekhne Se Me duniya Ko Bhul Jaata Hu.

*********

Dil kya cheez hai hum to rooh me utar jaye..

Tumne chaha hi nahi chahanay waloon ki tarah..

*********

Ek gazal tere naam likhta hu..
shikve usme hajaar likhta hu..

********

Narm lafzo se bhi lag jati hei chote akshar
rishte nibhaana bada naazuk sa hunnar hei

*********

Dard sahi par luft-o-maja bhi hei bahot,
aahista aahista zakhmo ko khola kijiye.

********

Dar ye bhi rahta hei ki kahi tut na jaaye wo,
dua ye bhi hei ki wo bikhar jaye meri baho me.

*********

Hum to hanste hain dusron ko hansane ki khatir,
Warna dil pe zakhm itne hain k roya b na jata..

*********

Suna he ishq ka shauq nahi tum ko,
Magar barbad tum kamal ka karte ho..

*********

Kitne khushnaseeb h hum ki ap hume yaad karti hai,kash ki ap humare paas hoti;

Nigahe tarasti h apko dekhne k liye,kash ki puri hamari ye fariyaad hoti…

*********

Suna hai tumahri ek nigah say katl hote hai log..
Ek nazar humko bhi dekh lo kyu ki abh zindagi acchi nahi lagti.

********

Koi Rishta Jo Na Hota, To Wo Khafa Kyo Hota.?
Ye Be-Rukhi, Uski Mohabbat Ka Pata Deti Hai…!

*********

Ager Wo Zindagi Mein Faqat Ik Baar Mera Ho Jate,
To Mein Zamane Ki Kitaabon Se Lafz Bewafai Hi Mita Deta…!

*********

‎​Bahot Se Sawal Hain Jo Karna Chahta Hoon Aqsar..

Bas Yeh Nahi Jaanta Ke Apne Se Karoon Ya Apnon Se..

*********

Mujhe inkaar kar de magar kuch guftuguu to kar,
Tera khamosh sa rehna mujhe takleef deta hai..

*********

Chali hai rasm ke koi na karzz lottaaye,
Kisi bhi shakhs ko ab tum udhaar mat dena..

*********

Kuch is adaa se ishq ke sadmey uthaayiye,
Dil gham se ro raha ho, magar muskuraayiye..
Mujhy Bhi Yaad Rkhna Jab Likho Tareekh-e-Wafa
K Me Ne Bhi Lutaya Hai tumhri Mohabat Main Sukoon Apna…!

********

Asuon ke chalne ki awaz nehi hoti,
Dil ke tootne ki ahaat nehin hoti.

Agar hota khuda ko har dard ka ehsas,
to use dard dene ki adat nehin hoti.

*********

Unko jab hamari jarurat the to roj haltebyan kiya karte the,
ajj jab hum dur ho gay to hamara naam v bhul gaye.

*******

Mat banana rishte is jahan me
Bahot mushkil unhein nibhana hoga..

*********

Har 1 rishta 1 naya gum dega
1 taraf bebas tum aur 1 taraf hasta zamana hoga…

***********

Teri wafaa ka samandar kisi or ke liye hoga,

Tere saahil se hum to roz pyaase hi guzar jaate he….

*********

Shiddat uski aankhon mein kuch aisi thi,
Ke barson se soye hue armaan pal mein machal gaye..!!

***********

Taras gaye apke deedar ko,
phir bhi dil aap hi ko yaad karta hai,
humse khusnaseeb to apke ghar ka aaina hai,
jo har roz apke husn ka deedar karta hai…

**********

Mere zunun ko zulf ke saaye se dur hi rakh,
raaste me chhaanv paa kar musaafir thahar na jaye..

***********

Zanzeere kat gai magar aazaad nahi insaan abhi tak,
duniya bhar ki khushi qaid hei chaandi jade makaano me.

**********

Mere aansuu bhi tumhe na khareed sake …

Logoh ki muskurahton ne tumhe apna bana liya…

*********

Kisi Ki Yaad Kabhi Raaz Nahi Hoti, Waqt K Pahiye Me Awaz Nahi Hoti.

Jane Kis Waqt Kiski Yaad Aa Jaye,
Qki Yaden Kabhi Waqt Ki Mohtaj Nahi Hoti….

*********

Sath Kuch Dino Ka ,,or Yadain Salo Saal Ki,,,
Ay Ishq Teri Yahi Ada Mujhe Bahot Achi Lagti Hai…

********

Samundar ki machli,
Ladki ka dil, aur
Currency note pe kisi ka naam
nahi likha hota jiske hath lagi usi
ki ho jati he…

*********

Sakht Rasto Pe Bhi Ashan Ye Safar Lagta He …

Muje Ye Mere ” MAA ”Ki Duva Ka Ashar Lagta He….

**********

Wo rooth gye mera andaz dekh kar ,
Badal gye mera jazbat dekh or,
Hazaro tukde kiye unhone mere dil me
Aur khud hi ro pade har tukde pe”apna naam”dekh kar.

*********

Wo Na hoge to kya kami hogi
Bas adhuri si jindagi hogi.

********

Mujse bichadke khush rahete ho
meri tarha tum bhi juth kahete ho..

*********

Bichhda kuch iss ada se k rut hi badal gyi,
Ek shakhsh sare sheher ko veeran kar gya..

**********

Barso guzar gye,ro kar nahi dekha,
Ankhon me nind thi sokar nhi dekha.

Wo kya jane dard mohabbat ka,jisne kisi ka ho kar nhi dekha.

********

Humne kaha Teri ek tasvir kaafi he zindagi guzarne k liye..

Usne to ek tasvir me char adaa dal k bhej di..

********

Me kisi se garaz rakhu hi kya,
Mera saaya tak mere saathe chalne se katrata he.

*********

Mili sazaa jo mujhe wo kisi khataa ki na thi,
Mujh pe jurm jo sabit hua woh wafa ka tha.

********

Kabhi pathar se bhi takraye to kharaash tak na aye,
Kabhi ik baat hi se insaan toot ke bikhar jatey hain..

*********

Jab wo Mera naam hatho ki lakeeron me talaash karte karte thak gayen…

To Mujhe Gale se laga kar bole lakeeren jhuth bolti hai Tum sirf Mere ho….

*******
Shikayat na karta jamane se koi,
agar man jata manane se koi.
Phir kisi ko yaad karta na koi,agar bhool jata bhulane se koi.

*******

Ab bhi na qabul ho to ye kishmat ki baat hei,
Aamin kah rahe hei wo meri har duaa ke baad..

***********

Tut gayi nind par Khwab wahi hai,
Dur rahte hai par pyar wahi hai,
Jaante hai ki mil nahi sakte abhi,
Magar In aakho me Intajar wahi hai…

***********

Aapki muskan hamari kamjori hai,
Keh na pana hamari majburi hai,
Aap kyon nahin samajhte is khamoshi ko,
Kya khamoshi ko zuban dena jaruri hai?

**********

#ChetanThakrar

#+919558767835

Advertisements
 

ટૅગ્સ:

Shayri part 16


कभी मंदिर पे बैठते हैं कभी मस्जिद पे …!!
ये मुमकिन है इसलिए क्योंकि परिंदों में नेता नहीं होते ….!!

********

आज भी ये बात हम समझ ही नहीं पाते हैं !!
मुट्ठी जितने दिल में कैसे ज़माने के गम समाते हैं ?

********

कीसी से भी अपनी जीदगी मे बने रहने के लिए
भीख न मागो जीसे रहना होगा वो कीसी भी
कीमत पर आपकी जीदगीमे बने रेगा…

*********

बुलन्दियों को पाने की ख्वाहिश तो बहुत थी…
लेकिन,दूसरो को रौंदने का हुनर कहां से लाता!

*******

“अपनी ‘उम्र’ और ‘पैसों’ पर कभी ‘घमंड’ मत करना…
क्योंकि जो चीज़ें ‘गिनी’ जा सकें वो यक़ीनन ‘ख़त्म’ हो जाती हैं…”

********

हज़ार चेहरों में उसकी झलक मिली मुझको;
पर दिल की ज़िद्द थी, अगर वो नहीं तो उस के जैसा भी नहीं…

*********

मंज़िल भी नहीं…ठिकाना भी नही…
वापस उनके पास जाना भी नहीं…
मैंने ही सिखाया था उन्हें तीर चलाना और
अब मेरे सिवा उनका कोई निशाना भी नहीं…

********

हमसे तन्हाई के मारे नहीं देखे जाते
बिन तेरे चाँद-सितारे नहीं देखे जाते

*********

दिलों कि बात करता हैं ज़माना.
पर आज भी मोहोब्बत चेहरों से ही शुरू होती हैं !

********

मेने तक़दीर पे यक़ीन करना छोड़ दिया है,
जब इंसान बदल सकते है तो ये तकदीर क्या चीझ हे…

********

फिक्रमंद हूँ आजकल तेरे बारे मेँ सोच के,
यूँ मुझपर गौर करोगे तो मुझसे मुहब्बत हो जाएगी!!!

********

‘तू’ डालता जा साकी शराब मेरे प्यालो में…

जब तक ‘वो’ न निकले मेरे ख्यालों से ।।।

********

खतरा है इस दौर में, बुजदिलों से दिलेर को.
धोखे से काट लेते हैं ”कुत्ते” भी ”शेर” को…!

********

तुजे कया खबर तेरी याद ने मुझे कीस तरह सताया….
कभी अकेले मे हसा दीया तो कभी भरी मेहफील मे रुलाया…

*********

कौन कहता है की खूबसूरती… उम्र की मोहताज है …..
हमने आज भी पुराने पन्नो पर, नए अफसाने लिखे देखे है..

********

इतने कहाँ मशरूफ़ हो गए हो तुम;
आजकल दिल तोड़ने भी नहीं आते!

*********

बड़े सुकून से वो रहता है आज कल मेरे बिना,
जैसे किसी उलझन से छुटकारा मिल गया हो उसे..!

********

टूटा हुआ फूल खुश्बू देता है;
बीता हुआ पल यादें देता है;
हर शख्स का अपना अंदाज़ होता है;
कोई प्यार में ज़िंदगी, तो कोई ज़िंदगी में प्यार दे जाता है !!!

*********

मेरी दोस्ती का फायदा उठा लेना, क्युंकी
मेरी दुश्मनी का नुकसान सह नही पाओग..

*********

मंज़िलों से गुमराह भी ,कर देते हैं कुछ लोग ।।
हर किसी से ,रास्ता पूछना ,अच्छा नहीं होता ।

********

रंज ये नही कि जो मिले वो पत्थर के लोग थे,
अफ़सोस ये है कि उनमे चंद मेरे घर के लोग थे…!!

********

मिट्टी के खिलौने भी सस्ते ना थे मेले में,
माँ-बाप बहुत रोये घर आ के अकेले में
!

********

“खुल जाता है तेरी यादों का बाज़ार हर शाम,
फिर मेरी रात इसी रौनक मे गुजर जाती है”

**********

सिर्फ हम ही क्यूं रहे नशे में ए साकी..
एक जाम वहां भी दे , के मुहब्बत उन्हें भी थी…

********

पहले इश्क फिर धोखा फिर बेवफ़ाई,
बड़ी तरकीब से एक शख्स ने तबाह किया..

*********

आये थे हंसते खेलते मैखाने में ‘फिराक’
जब पी चुके शराब तो संजीदा हो गये

**********

जहासे तेरी बादशाही खत्म होती है
वहासे मेरी नवाबी सुरु होती है

*********

मोहब्बत को इसकी बदमिज़ाजी ने ही बदनाम कर रखा है, क़दरदानों से कोसों दूर पड़ी रहती है बे-क़द्रों की ‘जूतियों’ के नीचे…!!

********

अगर अलग होना इतना आसान होता तो रूह को जिस्म से लेने फ़रिश्ते न आते।
बस इतनी इनायत बख्शना तू “मेरे नाम” को ऐ
खुदा,,,,,,,
कि जिसके भी लबों पे उभरे “मुस्कराहट” के साथ उभरे !!”

********

वक्त पे न पहचाने कोई ये अलग बात,
वैसे तो शहर में अपनी पहचान बहुत हैं।।।

*********

हमारा दुश्मन हमसे बोला
“बहुत महंगी पड़ेगी तुझे दुश्मनी मेरी “…
हमने उसको उत्तर ये दिया कि ”
सस्ती चीज हम कभी खरीदते ही नहीं”

*********

“इश्क” ‘महसूस’ करना भी इबादत से कम नहीं..
ज़रा बताइये ‘छू कर’ खुदा को किसने देखा है..

*********

हक़ीकत से बहोत दूर है ख्वाहीश मेरी,
फिर भी ख्वाहीश है कि एक ख्वाब हक़ीकत हो जाये।

**********

उसकी निगाहों में इतना असर था खरीद ली उसने एक नज़र में ज़िन्दगी मेरी.

*********

हमें पसन्द नहीं जंग में भी चालाकी,यारो….
जिसे निशाने पे रखते हैं, बता के रखते हैं…..!

*********

“रहे सलामत जिंदगी उनकी,
जो मेरी खुशी की फरियाद करते है.

ऐ खुदा उनकी जिंदगी खुशियों से भरदे,
जो मुझे याद करने में अपना एक पल बर्बाद करते है…..!!

*********

भूल सकते हो तो भूल जाओ ,
इजाज़त है तुम्हे,
न भूल पाओ तो लौट आना ,
एक और भूल कि इजाज़त है तुम्हे…

********

बरबाद कर देगी ये दोनों की लड़ाई मुझे।।
न ईश्क हार मानता है और ना दिल शिकस्त का आदि है।।

**********

वक्त मिले कभी तो कदमों तले भी देख लेना,
बेकसूर अक्सर वहीं पाये जाते हैं..

*********

मेरी मौत की ख़बर देना उन्हें मगर इन
अलफ़ाज़ में……!
तुम्हारा बरसों का जो अरमान था अब
पूरा हो गया ….!!

*********

क़ायनात की सबसे महंगी चीज एहसास है
जो दुनिया के हर इंसान के पास नहीं होता

*********

सुनते हैं कि मिल जाती है हर चीज़ दुआ से;
इक रोज़ तुम्हे मांग के देखेंगे खुदा से।

*********

झूठ कहते हैं लोग कि मोहब्बत सब कुछ छीन लेती है,
मैंने तो मोहब्बत करके, ग़म का खजाना पा लिया ।

********

जिन्दगी जख्मो से भरी है, वक़्त को मरहम बनाना सिख लें.
हारना तो है मोतके सामने, फ़िलहाल जिन्दगी से जीना सिख लें….!!

********

मैं चुप रहा और ग़लतफ़हमी बढ़ती गयी
उसने वो भी सुना जो मैंने कभी कहा ही नहीं…

********

दिल भी कमाल करता है,
जब खाली खाली होता है , भर आता है!

*********

मोहब्बत ज़िन्दगी बदल देती है …..

मिल जाये तब भी ….!!!
ना मिले तब भी ….!!!

********

आसमान में उड़ने की मनाही नहीं है,
शर्त इतनी है की ज़मीन को नजर अंदाज़ ना करे…

*********

रोज़ इक ताज़ा शेऱ कहां तक लिखूं तेरे लिए, तुझमें तो रोज़ ही एक नयी बात हुआ करती है

********

इक मशवरा चाहिए था साहेब !
दिल तोड़ा है इक बेवफा ने , जान दे दूं या जाने दूं ।

*********

मैने ही दुआ मांगी उसकी खुशी की खातिर !!

वो मेरे बिना आज खुश है तो फिर ये जलन कैसी !

********

” सागर के किनारो पे खजाने नहीं आते।
पल जो फीसल गये हाथ से वो दुबारा नहीं आते।

**********

“जी भर के जीलो इन हसी पलो को जनाब।
क्योंकी….
फीर लौटके वो दोस्ती के जमाने नहीं आते।”

**********

यु तो क्या कहे की जिंदगी ने इम्तेहान बहुत लिए…
आँखों में आंसू कम, पर दिल पे जख्म कई दिए…

हर पर ख़ुशी की तलाश में भटकती रही जिन्दगी…
ख़ुशी न मिली, तो गम छुपाने के लिए मुस्कुरा दिए…

**********

“माचिस की ज़रूरत यहाँ नहीं पड़ती…
यहाँ आदमी आदमी से जलता है…!!”

*********

दुनिया के बड़े से बड़े साइंटिस्ट, ये ढूँढ रहे है की मंगल ग्रह पर जीवन है या नहीं,

पर आदमी ये नहीं ढूँढ रहा कि जीवन में मंगल है या नहीं।

***********

इश्क करो तो होम्योपैथिक वाला करो ,
फायदा ना हो तो नुक्सान भी ना हो…

**********

पैर की मोच और छोटी सोच – हमें आगे बढ़ने नहीं देती…

टुटी कलम और औरो से जलन – खुद का भाग्य लिखने नहीं देती…

काम का आलस और पैसो का लालच – हमें महान बनने नहीं देता…

अपना मजहब उंचा और गैरो का ओछा – ए सोच हमें इन्सान बनने नहीं देती

*********

पलकों में आँसु और दिल में दर्द सोया है,
हँसने वालो को क्या पता, रोने वाला किस कदर रोया है,
ये तो बस वही जान सकता है मेरी तनहाई का आलम,
जिसने जिन्दगी में किसी को पाने से पहले खोया है..!!

********

तुम शराफ़त को बाज़ार में क्यूँ ले आए हो, दोस्त…
ये सिक्का तो बरसों से नहीं चलता…!!

*********

ये तो शौक है मेरा ददॅ लफ्जो मे बयां करने का
नादान लोग हमे युं ही शायर समझ लेते है

********

रकीबों के सर गलत इल्जाम ए बेवफाई है
गैरों ने तो सिर्फ हवा दी है..आग तो अपनों ने
ही लगायी है….!!!

********

जो घरों को छोड़ के है चले
उन्हें क्या सतायेगे फासले ।।।
~ जावेद अख्तर

********

मरहम न सही एक जख्म ही दे दो
महसूस तो हो की हमे तुम भूले नहीं हो..

*********

“शाम के बाद मिलती है रात,
हर बात में समाई हुई है तेरी याद.
बहुत तनहा होती ये जिंदगी,
अगर नहीं मिलता जो आपका साथ.”

********

“ज़िंदगी से यू चले है इल्ज़ाम लेकर,
बहुत जी चुके उसका नाम लेकर,
अकेले बाते करेंगे वो इन सितारो से,
जब हम चले जाएँगे उन्हे सारा आसमान देकर”

*********

अहंकार में तीन गए;
धन, वैभव और वंश!
ना मानो तो देख लो;
रावन, कौरव और कंस!

*******

तेरे होने पर खुद को तनहा समझू !
मैं बेवफा हूँ या तुझको बेवफा समझू !!
ज़ख्म भी देते हो मलहम भी लगाते हो !
ये तेरी आदत हैं या इसे तेरी अदा समझू!!

********

मिलेगी परिंदों को मंजिल ये उनके पर बोलते हैं,
रहते हैं कुछ लोग खामोश लेकिन उनके हुनर बोलते है.

*********

“इश्क़ ऐसा करो कि धड़कन मे बस जाए,
सांस भी लो तो खुश्बू उसी की आए,
प्यार का नशा आँखो पे ऐसा छाए,
बात कोई भी हो,पर नाम उसी का आए.”

********

कुछ और कश लगा ले ऐ ज़िन्दगी…
बुझ जाऊंगा किसी रोज़ सुलगते – सुलगते…

*********

ज़िदगी जीने के लिये मिली थी,
लोगों ने सोच कर गुज़ार दी.

*******

वक़्त बहुत कुछ, छीन लेता है …

खैर मेरी तो सिर्फ़ मुस्कुराहट थी ..

*******

चैन से रहने का हमको मशवरा मत दीजिये…
अब मजा देने लगी हैं जिदगी की मुश्किलें…!!!

*******

“हम तो बस लिख देते हैं जहन में आ जाता है
जो,
जुड़ जाता है आपके दिल से तो बस इत्तेफाक
समझिये…!”

*******

ज़रा देख दरवाज़े पर दस्तक किसने दी है
अगर हो इश्क तो कहना, यहाँ दिल नहीं रहता..

*********

“मतलबी लडकी से अच्छी तो मेरी सिगरेट हे
यारो..
जो मेरे होठ से अपनी जिंदगी शुरू करती हे ओर
मेरे कदमो के नीचे अपना दम तोड देती हे…!”

*********

दौलत की भूक ऐसी के घर से निकल गए
दौलत मिली तो हाथ से रिश्ते निकल गए।

********

फुल हो तुम मुरझाना नहीं, साथ छोड़ के कभी दूर जाना नहीं…
जब तक हम जिन्दा है ऐ दोस्त कभी किसी से
घबराना नही…

********

बेक़सूर ज़िंदगी इल्ज़ामों से घिरी रही
कसूरवार हँसता रहा मुझ पर ताउम्र …..

*********

शुबह होती नही शामढलती नही
नज़ाने क्या खूबी है आप मे के
आप को यादकिए बिना खुशी मिलती नही

*********

मंज़िलों से गुमराह भी ,कर देते हैं कुछ लोग ।।
हर किसी से ,रास्ता पूछना ,अच्छा नहीं होता ।।।

********

“हर एक शख्स ने अपने अपने तरीके से इस्तेमाल किया हमें..
और हम समझते रहे लोग हमें पसंद करते हैं !!”

*********

“कम से कम दो चार लोगों से रिश्ते बनाये रखिये, क्युंकि
कब्र तक लाश को दौलत नहीं ले जाया करती ।”

********

रानी के बगेर बादशाह की सब चाल अधूरी होती है, लेकिन मेरी ज़िन्दगी ताश के एक्के की तरह है, ना तो रानी के आने से फरक पड़ता है या जाने से …

********

एक सच्चा दिल सब के पास होता हैं
फिर क्यों नहीं सब पे विश्वास होता हैं
इंसान चाहे कितना भी आम हो
वो किसी न किसी के लिए जरुर खास होता हैं.

********

क्यूँ न हो मेरी नज़रों को शिकायत रात से.
सपना पूरा होता नहीं और सवेरा हो जाता है….

********

जो कोई समझ ना सके वो बात है हम.
जो ढलके नयी सुबह लाये वो रात है हम.

छोड देते है लोग रीश्ते बनाकर.
जो कभी छोडके ना जाये वो साथ है हम.

********

ये बद्दुआयें अपने पास ही रखो साहब,
मुझे मुहब्बत है, खुद ही मर जाऊँगा !!,

********

खतरा है इस दौर में, बुजदिलों से दिलेर को,
धोखे से काट लेते हैं ”कुत्ते” भी ”शेर” को..

*********

आज़ाद परिंदा बनने का मज़ा ह कुछ और है,
अपने शर्तो पे ज़िन्दगी जीने का नशा ही कुछ और हैं. .

*********

तमन्नाओ की महफ़िल….. तो हर कोई सजाता है,,
पूरी उसकी होती है…… जो तकदीर लेकर आता है..!!

*********

बर्बाद वो अपने इश्क में मुझे कर के बोले ____
“तुम वो नहीं जिसकी मुझे तलाश थी”

********

जिधर देखो, उधर मिल जायेंगे, अखबार नफरत के
बहुत दिन से, मोहब्बत का न देखा, एक खत यारो !!

*********

अब हमें भी नहीं रखना शौक तेरी मुहब्बत का,
जो रुला सकता है वो भूला भी सकता है….

********

हर नए ज़ख़्म पे यूँ ही नहीं मुस्कुरा देते ..
याद आता है मुझे जान से प्यारा कोई!!!!!

********

आग लगी थी मेरे घर मे,
बचा ही क्या है ?

मैँने कहा-“मैँ बच गया हूँ ”

वो बोली-“तो फिर जला ही क्या है”?

********

लौट आती है ये जा जा के
नये जिस्म में क्यों,
आखिर इस रूह का
इस दुनिया से रिश्ता क्या है….

********

जो तेरी आंखो से बयान होते हैं,
वो लफ़्ज़ किताबों मे कहाँ मिलते हैं…

********

“यूँ ही जिंदगी की कशमकश में थोड़ा उलझ गये हैं यारों,
वरना हम तो दुश्मनों को भी अकेला महसूस होने नहीं देते!”

*********

सोचों तो सिलवटों से भरी है तमाम रूह |
देखो तो शिकन भी नहीं है लिबास में |

********

मुझको हँसते हुए इस दुनिया से रुखसत कीजे
कोई रोता है भला जब कोई घर जाता है

********

न करना वक्त से तुम बदतमीजी…
कि वो अक्सर पलटकर बोलता है !!

*********

कोई नाराज हैँ हमसे हम कुछ लिखते नहीँ,
कहां से लाएं लफ्ज जब वो हमसे मिलते नहीँ …

********

दर्द की जुबां होती तो बता देते,
वो जख्म कैसे बताएं जो दिखते नहीँ …!

*********

चेहरे की हंसी से ग़म को भुला दो,
कम बोलो पर सब कुछ बता दो.
खुद ना रुठों पर सब को हँसा दो,
यही राज है ज़िंदगी का,
कि जियो और जीना सिखा दो…..

***********

हम तो बेजान चीजो से भी वफा करते है..
तुझमे तो फिर भी मेरी जान बसी है !!

************

अब के गुलशन मे अजब तब्दीलियाँ आने लगी,
तितलियाँ काग़ज़ के फूलों पे भी मंडराने लगी….!!!???

**********

बस एक चेहरे ने तनहा कर दिया हमे वरना!
हम खुद में एक महफ़िल हुआ करते थे.

*********

तुझसे मोहब्बत तो तेरी औकात से ज्यादा ही की थी………….

अब बात नफ़रत की है, तो…. तु सोच तेरा क्या होगा………???

**********

“हँस कर कुबूल क्या कर ली हर सजा हमने,

दस्तूर बना लिया दुनिया ने भी इल्जाम लगाने का”

********

किसने कहा, मेरे दिल में मेहमान बन के आया कर ऐ-दोस्त,
ये तेरी सल्तनत है, जब भी आए, सुलतान बन के आया कर…

*******

तेरी दोस्ती को, मेरे तजुर्बे की जरुरत हैं

कहीं दुश्मनों से…मोहब्बत ना कर बैठो….

*******

अगर बेवफाओ की अलग बस्ती होती साहब….
मेरी महबूबा ही वहां की मल्लिका होती….

*******

पलकों में आँसु और दिल में दर्द सोया है,
हँसने वालो को क्या पता, रोने वाला किस कदर रोया है,
ये तो बस वही जान सकता है मेरी तनहाई का आलम,
जिसने जिन्दगी में किसी को पाने से पहले खोया है..!!

********

ना तंग करो इतना, हम सताऐ हुऐ हैं,
महोब्बत का गम दिल पे उठाऐ हुऐ हैं,
खिलौना समझ कर हम से ना खेलो,
हम भी उसी खुदा के बनाऐ हुऐ हैं..

*******

मुहब्बत एक एहसासों की पावन सी कहानी है
कभी कबीरा दीवाना था कभी मीरा दीवानी है ..

******

“आप आँखों से दूर दिल के करीब थे,
हम आपके और आप हमारे नसीब थे,
न हम मिल सके, न जुदा हुवे……,
रिश्ते हम दोनों के कितने अजीब थे.”

*******

जिंदगी बस इतना अगर दे तो काफी है …
सर से चादर न हटे , पांव भी चादर में रहे …

******

अजब मुकाम पे ठहरा हुआ है काफ़िला ज़िन्दगी का……..
सुकून ढूँढने चले थे,नींद ही गँवा बैठे।।

******
किसी को खुश करने का मौका मिले तो खुदगर्ज ना बन जाना ऐ दोस्त,

बड़े नसीब वाले होते है वो, जो दे पाते है मुस्कान किसी चेहरे पर…..

******

पी लिया करते हैं जीने की तमन्ना में कभी,
डगमगाना भी जरूरी है संभलने के लिए।

******

किसी को चोट पहुँचाकर माफी माँगना बहुत आसान है
लेकिन
खुद चोट खाकर किसी को माफ करना बहुत मुश्किल है

*******

दुनिया में सब चीज मिल जाती है,….
केवल अपनी गलती नहीं मिलती…..

******

अजीब फितरत है उस समंदर की
जो टकराने के लिए पत्थर ढुंढता है..

******

जीवन का हर पन्ना तो रंगीन नही होता,
हर रोने वाला तो गमगीन नही होता
एक ही दिल को कोई कब तक तोड़ता रहेगा
अब कोई जोड़ता भी है तो यकीन नही होता !!!

*******

तेरे होने पर खुद को तनहा समझू !
मैं बेवफा हूँ या तुझको बेवफा समझू !!

ज़ख्म भी देते हो मलहम भी लगाते हो !
ये तेरी आदत हैं या इसे तेरी अदा समझू!!

*******

“भले थे तो किसी ने हाल त़क नहींपूछा,,,,

बुरे बनते ही देखा हर तरफ अपने ही चरचे हैं !!!!!

*******

बस…कंठ ही हमारा नीला नही है …..
वरना ..जहर तो हमने भी कम नही पिया………..

*******

अपनी जुबान से ऐसे मीठे सब्द बोलो
की वापस भी लेने पड़े तो खुद को कड़वे न लगे…!!

*******

“मिलके बिछड़ना दस्तूर है जिंदगी का,
एक यही किस्स मशहूर है जिंदगी का,
बीते हुए पल कभी लौट कर नहीं आते,
यही सबसे बड़ा कसूर है जिंदगी का।”

*******

आप तो डर गये मेरी एक ही कसम से,
आपकी कसम देकर हमें तो हज़ारों ने लूटा.

******

हमको ख़ुशी मिल भी गई तो कहा रखेगे हम !
आँखों में हसरतें है तो दिल में किसी का गम !

******

अपना ग़म लेके कही और न जाया जाए
घर में बिखरी हुई चीज़ों को सजाया जाए

******

अपने अहंकार को काबु मे करना सीख लो

जीतना जल्दी सीखजाओगे उतना आगे बढपाओगे ॥

*******

ऑंख से ऑंख मिलाता है कोई,
दिल को खिंच लिये जाता है कोई,
बहुत हैरत है के भरी मेहफील में,
मुझ को तनहा नज़र आता है कोई।

*******

ग़म ने क्या खूब याद रखा है मेरे दिल का पता

बस ये खुशियाँ ही तो आवारा निकली…..!!!!

*******

अब अपने ज़ख़्म दिखाऊँ किसे और किसे नहीं …!

बेगाने समझते नहीं और अपनोको दिखते नहीं…..,!!

*******

कल भी जी रहा था तेरे लीये।।
अज भी जी रहा हु सिर्फ तेरे लीये।।
फरक सिर्फ इतना है .. कल तक प्यार करने के
लीये जी रहा था अब बदला लेने के लीये जी रहा हु।।

*******

“ओस की बूंदे है, आंख में नमी है,

ना उपर आसमां है ना नीचे जमीन है

ये कैसा मोड है जिन्‍दगी का

जो लोग खास है उन्‍की की कमी हैं ”

*******

कल न हम होंगे न कोई गिला होगा !
सिर्फ सिमटी हुई यादों का सिलसिला होगा !!

जो लम्हे हैं चलो हँस कर बिता ले…!
जाने कल जिंदगी का क्या फैसला होगा !

*******

तुम ना-हक नाराज़ हुए, वरना मयखाने का पता,
हमने हर उस सख्स से पुछा, जिसके नैन नशीले थे..

*******

रात क्या ढली कि सितारे चले गये, गैरों से क्या कहें हम जब अपने ही चले गये,
जीत तो सकते थे हम भी इश्क की बाज़ी, पर तुम्हे जितने के लिए हम हारते चले गये

*******

मंदिर में फूल चढ़ा कर आए तो यह एहसास हुआ कि…
पत्थरों को मनाने, फूलों कि क़त्ल कर आए हम ।

गए थे गुनाहों की माफ़ी माँगने ….
वहाँ एक और गुनाह कर आए हम

*******

नींदे गिरवी हैं उस के पास,
जिस से मोहब्बत का क़र्ज़ लिया था……

*******

“तन्हाईयां जाने लगी जिंदगी मुस्कुराने लगी,
ना दिन का पता है ना रात का पता.
आप की दोस्ती की खुशबू हमे महकाने लगी,
एक पल तो करीब आ जाओ धड़कन भी आवाज़ लगाने लगी.. ”

*******

उम्र की राह पर रस्ते बदल जाते है,
वक़्त की आंधी मे इंसान बदल जाते है,
हम सोचते है आपको इतना याद ना करे,
लेकिन आँखे बंद करते ही इरादे बदल जाते है

********

कोशिशें मुझको मिटाने की भले हों कामयाब
मिटते-मिटते भी मैं मिटने का मजा ले जाऊँगा

शोहरतें जिनकी वजह से दोस्त दुश्मन हो गये
सब यही रह जायेंगी मैं साथ क्या ले जाऊँगा __

********

“ज़िन्दगी मे कई मुशकिले आती है,
और इन्सान ज़िन्दा रहने से घबराता है,
ना जाने कैसे हज़ारो कांटो के बीच,
रह कर भी एक फूल मुस्कुराता है.”

*******

रेत की जरूरत रेगिस्तान को होती है,
सितारों की जरूरत आसमान को होती है,
आप हमें भूल न जाना, क्योंकी
दोस्त की जरूरत हर इंसान को होती है…….

******

मेरे आंसू और तेरी यादों का कोई तो रिश्ता जरूर है..
कमबख्त जब भी आते है दोनों साथ ही आते है………

*******

तुम्हारा वो पुराना साथ अब न मिलेगा मुझे,
शायद इसलिए तेरी यादों के साथ सो रहा हूँ मैं।
सच में,जबसे हुए हो दूर तुम जिंदगी से मेरी,
कैसे कहूँ की कितना अकेला सा हो गया हूँ मैं।

*******

ना दौलत पे नाज करते है,
ना शोहरत पे नाज करते है,
भगवान ने हिंदू के घर पैदा किया है,
इसलिए अपनी किस्मत पे नाज करते है..
जय श्री राम…

******

तुझे तो हमारी मोहब्बत ने मशहूर कर दिया बेवफ़ा
वरना तू सुर्खियों में रहे, तेरी इतनी औकात नहीं!!!

******

अपनी खुशियों की चाबी किसी को न देना ।

लोग अक्सर दूसरों का सामान खो देते है.

*******

किताबों की तरह बहुत से अलफ़ाज़ हैं मुझ में,

और किताबों की तरह ही में खामोश रहता हूँ…!

*******

फर्क होता है खुदा और फ़क़ीर में;
फर्क होता है किस्मत और लकीर में;
अगर कुछ चाहो और ना मिले;
तो समझ लेना कि कुछ और
अच्छा लिखा है तक़दीर में।

*******

दुश्मनों के खेमे में चल रही थी मेरे क़त्ल की साज़िश
मैं पहुँचा तो वो बोले ” यार तेरी उम्र लम्बी है ”

*******

माँगना भूल न जाऊँ तुम्हें हर नमाज़ के बाद..
इसलिये मैंने तुम्हारा नाम ‘दुआ’ रख दिया…

********

वोह अल्फ़ाज़ ही क्या जो समझानें पढ़ें,
हमने मुहब्बत की है कोई वकालत नहीं ।

*******

“मुहब्बत में झुकना कोई अजीब बात नहीं है…

चमकता सूरज भी तो ढल जाता है चाँद के लिए…”

********

मुझे अपनी मौत का तो कोई गम नहीं है लेकिन,

तेरे आशियां पे मरते तोकुछ और बात होती….

*******

कितने नाजुक मिजाज है
वो कुछ न पुछीये
निंद नही आती है
उन्हे धड़कन के शौर से

********

दोस्ती तो ज़िन्दगी का वो खूबसुरत लम्हा है,
जिसका अंदाज सब रिश्तों से अलबेला है,
जिसे मिल जाये वो खुश…………,
जिसे ना मिले वो लाखों में अकेला है|

********

#ChetanThakrar

#+919558767835

 

ટૅગ્સ:

.. . बिक न जाए


बिक गयी है धरती , गगन बिक न जाए ,
बिक रहा है पानी,पवन बिक न जाए ,

चाँद पर भी बिकने लगी है जमीं .,
डर है की सूरज की तपन बिक न जाए , 

हर जगह बिकने लगी है स्वार्थ नीति, 
डर है की कहीं धर्म बिक न जाए ,

देकर दहॆज ख़रीदा गया है अब दुल्हे को ,
कही उसी के हाथों दुल्हन बिक न जाए ,

हर काम की रिश्वत ले रहे अब ये नेता ,
कही इन्ही के हाथों वतन बिक न जाए ,

सरे आम बिकने लगे अब तो सांसद ,
डर है की कहीं संसद भवन बिक न जाए ,

आदमी मरा तोभी आँखें खुली हुई हैं 
डरता है मुर्दा , कहीं कफ़न बिक न जाए

 

50,000


આપ સૌ મુલાકાતીઓ નો ખુબ ખુબ આભાર, આપ બધા ના પ્રેમ અને સાથ થી આ બ્લોગ ને ૨ વરસ ના ગાળા મા ૫૦,૦૦૦ HIT મળી ચુકી છે.

 
Leave a comment

Posted by on એપ્રિલ 25, 2014 in અંગત

 

ટૅગ્સ:

પુરુષ એટલે શું ?


 

પુરુષો વિશે પુરુષો દ્વારા ઘણું લખાયુ છે. પણ જ્યારે એક સ્ત્રી પુરુષ વિશે લખે ત્યારે તે વાસ્તવિકતા ની વધુ નજીક હોય છે.
પુરુષ એટલે શું ?
-પુરુષ એટલે પત્થર માં પાંગરેલી કૂંપળ.
-પુરુષ એટલે વજ્ર જેવી છાતી પાછળ ધબકતું કોમળ હૈયુ.
-પુરુષ એટલે ટહુકા ને ઝંખતુ વૃક્ષ.
-પુરુષ એટલે તલવાર ની મૂઠ પર કોતરેલું ફુલ.
-પુરુષ એટલે રફટફ બાઇક માં ઝૂલતું હાર્ટશેપ નું કીચેઇન.
-પુરુષ એટલે બંદુક નાં નાળચા માં થી છૂટતુ મોરપિંછું.
પુરુષ એ નથી જે ફિલ્મો કે ટી.વી માં જોવા મળે છે.પુરુષ એ છે જે રોજબરોજ ની ઘટમાળ માં થી આંખ સામે ઉપસી આવે છે.
પુરુષ એમ કહે કે ‘આજે મૂડ નથી, મગજ ઠેકાણે નથી’ પણ એમ ના કહે કે ‘આજે મન ઉદાસ છે.’
સ્ત્રી સાથે ઘણી વાતો શેર કરી શકતો પુરુષ પોતાના દર્દ શેર નથી કરી શકતો.
સ્ત્રી પુરુષ નાં ખભા પર માથું ઢાળી રડે છે. જ્યારે પુરુષ સ્ત્રી નાં ખોળા માં માથુ છૂપાવી રડે છે.
જેમ દુનિયાભર ની સ્ત્રીઓ ને પોતાના પુરુષ નાં શર્ટ માં બટન ટાંકવામાં રોમાંચ થાય છે એ જ વખતે એ સ્ત્રી ને ગળે લગાડી લેવા નો રોમાંચ પુરુષો ને પણ થતો હોય છે.
હજારો કામકાજ થી ઘેરાયેલી સ્ત્રી જ્યારે પુરુષ ને વાળ માં હાથ ફેરવી જગાડે છે ત્યારે પુરુષ નો દિવસ સુધરી જાય છે.
પુરુષ સુંદર સ્ત્રીઓ થી ખેચાઇ ને અને બુદ્ધિશાળી સ્ત્રીઓ નાં પ્રભાવ થી અંજાઇ ને તેનાં પ્રેમ માં પડી જતો હોય છે.
જીતવા માટે જ જન્મેલો પુરુષ પ્રેમ પાસે હારી જાય છે અને જ્યારે એ જ પ્રેમ એને છોડી જાય ત્યારે તે મૂળ સોતો ઉખડી જાય છે.
સ્ત્રી સાથે સમજણ થી છૂટો પડતો પુરુષ તેનો મિત્ર બની ને રહી શકે પણ…બેવફાઇ થી ત્યજાયેલો પુરુષ કચકચાવી ને દુશ્મની નિભાવે છે.
ધંધામા કરોડો ની નુકશાની ખમી જાતો પુરુષ ભાગીદાર નો દગો ખમી નથી શકતો.
સમર્પણ એ સ્ત્રીનો અને સ્વીકાર એ પુરુષ નો સ્વભાવ છે પણ પુરુષ જેને સમર્પિત થાય એનો સાત જન્મ સુધી સાથ છોડતો નથી.
પુરુષ માટે પ્રેમ નાં સુંવાળા માર્ગ પર લપસી જવું એ એક થ્રીલ છે અને સહજ પણ છે.પરંતુ એની જ સ્ત્રી માટે તે બ્લેકઝોન છે જ્યાં થી પાછી ફરેલી સ્ત્રી ને એ ચાહી શકતો નથી.
પરણવું અને પ્રેમ કરવો એ સ્ત્રી માટે એક વાત હોઇ શકે પુરુષ માટે નહી.
એક જ પથારી માં અડોઅડ સૂતા બે શરિરો વચ્ચે ની અદ્ર્શ્ય દિવાલ નીચે પુરુષ ગુંગળાતો રહે છે પણ ફરિયાદ કરતો નથી.
પુરુષ ને સમાધાન ગમે છે પણ જો એ સામે પક્ષે થી થતુ હોય તો.
ગમેતેવો જૂઠો, લબાડ ,ચોર, લંપટ, દગાખોર પુરુષ પણ પોતાના પરિવાર સાથે સરળ સદગૃહસ્થ જ હોય છે.
સ્ત્રી નું રુદન ફેસબૂક ની દિવાલ ને ભિંજવતું હોય છે પણ પુરુષ નું રુદન એનાં ઓશિકા ની કોર ને પણ પલાળતુ નથી.

કહેવાય છે કે ‘સ્ત્રી ને ચાહતા રહો સમજવાની જરુર નથી.’ હું કહુ છુ પુરુષ ને બસ….સમજી લો…આપોઆપ ચાહવા લાગશો.

Source: Parul khakhkhar ( http://mypinkpoems.wordpress.com )

 

Shayri part 14


“बिखरने दो होंठों पे हंसी के फुहारों को दोस्तों,
प्रेम से बात कर लेने से जायदाद कम नहीं होती….!

********

आइना तेरी भी हालत अजीब है मेरे दिल की तरहा!!!!!!!
तुझे भी बदल देते है ये लोग तोड़ने के बाद…..!!!

********

मिल जायेंगा हमें भी कोई टूट के चाहने वाला
अब शहर का शहर तो बेवफा नहीं हो सकता… !!

********

मोहबत किताबो में और
शायरी में ही अच्छी लगाती हे
ज़िन्दगी में नहीं…!!

*********

सीख रहा हूं अब मैं भी इंसानों को पढने का हुनर

सुना है चेहरे पे किताबों से ज्यादा लिखा होता है…..

********

हर मुलाक़ात पर वक़्त का तक़ाज़ा हुआ।
हर याद पर दिल का दर्द ताज़ा हुआ।

सुनी थी सिर्फ ग़ज़लों में जुदाई कि बातें।
अब खुद पर बीती तो हकीकत का अंदाजा हुआ

*********

पूछो ना उस कागज़ से जिस पे;
हम दिल के मुकाम लिखते है;
तन्हाइयों में बीती बातें तमाम लिखते है;
वो कलम भी दीवानी हो गई;
जिस से हम आप का नाम लिखते है।

*******

प्यास अगर मेरी बुझा दे तो मैं मानू…..
वरना….
तू समन्दर है, तो होगा, मेरे किस काम का ??

********

मैं ऊँचे लोगों की ऊँचाइयों से वाकिफ हूँ…
बड़ा मुश्किल है इस दुनिया में ऊँचा रहकर ऊँचा होना !!!

********

एक नफरत ही हैं जिसे,
दुनिया चंद लम्हों में जान लेती हैं.

वरना चाहत का यकीन दिलाने में,
तो जिन्दगी बीत जाती हैं..

********

टूटा तारा देखकर मांगते है कुछ न कुछ लोग,

पर अगर वो दे सकता तो खुद क्यूँ तूट जाता…!!!

********

“बेवफा लोग बढ़ रहे हैं धीरे धीरे
इक शहर अब इनका भी होना चाहिए……!!

********

आज़माते हैं लोग सब्र मेरा …..!
बार-बार कर के जिक्र तेरा…..!!

********

ये भी अच्छा है सिर्फ सुनता है;
दिल अगर बोलता तो कयामत हो जाती ।

*********

खुद पुकारेगी मंज़िल तो ठहर जाउंगा……
वरना मुसाफिर खुद्दार हूँ, गुज़र जाउंगा…..

*********

इतनी मतलबी हो गई हैं आँखें मेरी ..,
कि तेरे दीदार के बिना दुनिया अच्छी नहीं लगती ..!!!

*********

हर शख्स को नफरत झूठ से है,

मैँ परेशा हूँ सोच कर कि फिर ये झूठ
बोलता कौन है…….

*******

कभी टूट कर बिखरो तो मेरे पास आ जाना…मुझे अपने जैसे लोग बहुत अच्छे लगते हैं

********

सफ़ाई देने में, और स्पष्ट करने में अपना समय बर्बाद न करें. लोग वही सुनते है, जो वे सुनना चाहते हैं.

********

बिखरने दो होंठों पे हंसी के फुहारों को दोस्तों,
प्रेम से बात कर लेने से जायदाद कम नहीं होती..

********

ज़िन्दगी तुझसे हर कदम पर समझौता करूँ,
शौक जीने का है मगर इतना भी नहीं।l

********

परवाह नहीं अगर ये जमाना खफा रहे।
बस इतनी सी दुआ है की आप मेहरबां रहे।

********

हँसते हुए लोगों की संगत ईत्र की दुकान जैसे होती है,
कुछ ना खरीदो
फिर भी रूह महका देते है …….

*********

ज़िन्दगी हो या शतरंज…
मज़ा तभी है दोस्त…..जब रानी साथ हो….

********

“न जाने कब खर्च हो गये , पता ही न चला,
वो लम्हे , जो छुपकर रखे थे जीने के लिए”…

********

आज ख़ामोश सा मंजर है यहाँ…!!
ईश्क़ तो नहीं हो गया सबको…!!

*********

लोगों ने रोज़ कुछ नया मांगा खुदा से,
एक हम ही तेरे ख्यालों से आगे नहीं गये।!!

********

“भाग्य उसे कहते हैँ जब अवसर दरवाजा खटखटाए और आप उसी क्षण उत्तर देने के काबिल हो ..!!!”

********

“मेरी शायरी को इतनी शिद्दत से ना पढ़िए..
गलती से कुछ याद हो गया तो मुझे भुला ना पाओगे”..!!!

********

कल न हम होंगे न कोई गिला होगा !
सिर्फ सिमटी हुई यादों का सिलसिला होगा !!

*********

जो लम्हे हैं चलो हँस कर बिता ले…!
जाने कल जिंदगी का क्या फैसला होगा !

********

दर्द दे कर इश्क़ ने हमे रुला दिया,
जिस पर मरते थे उसने ही हमे भुला दिया,
हम तो उनकी यादों में ही जी लेते थे,
मगर उन्होने तो यादों में ही ज़हेर मिला दिया

********

लोग मन्जिल को मुश्किल समझते है,
हम मुश्किल को मन्जिल समझते है,
बडा फरक है लोगो मे ओर हम मै,
लोग जिन्दगी को दोस्त ओर हम दोस्त को जिन्दगी समझते है.

********

आदते अलग हे हमारी दुनिया वालो से,
कम दोस्त रखते हे मगर
लाजवाब रखते है-
क्योंकि बेशक हमारी माला छोटी है-
पर फूल उसमे सारे गुलाब रखते हे…

********

मेरे हालत की नज़ाक़त से अभी नावाकिफ़ हो तुम…

हम उसे भी जीना सिखा देते है, जिसे मरने का शौक हो…!!!

**********

जानत! हूँ कि तुम्हारा होना है । आओ हँस लें कि फिर तो रोना है ।

हमको अपना पता भी याद नहीं, तेरी आँखों का जादू – टोना है ।

हर तरफ़ प्यार, प्यार, प्यार उगे, बीज ऐसा दिलों में बोना है ।

मौत और ज़िन्दगी का अर्थ है क्या, साँस का जागना है, सोना है ।

तू अभी तक बसा है साँसों में, तुझसे महका ये कोना-कोना है

********

दुआ कबुल हो ज़ाये तो कैसा रोना ,
हर बार निशाना मोहब्बत पर तो नही होता!!!

*******

बेवफाई तो सभी करते है…
तुमतो समजदार थे,
कुछ और करते…!!!

*********

उम्रे दराज मांग के लाये थे चार दिन ।
दो आरजू में कट गए दो इंतजार मे

*********

ये माना के तेरी नज़र के काबिल नहीं हूँ मैं,

कभी उन से भी पूछ, जिन्हें हासिल नहीं हूँ मैं!!

**********

सौदा हमारा कभी बाज़ार तक नही पहुंचा,
इश्क था जो कभी इज़हार तक नही पहुंचा,

यूँ तो गुफ्तगू बहुत हुई उनसे मेरी,
सिलसिला कभी ये प्यार तक नही पहुंचा,

जाने कैसे वाकिफ़ हो गया तमाम शहर,
दास्ताने-इश्क वैसे “अखबार” तक नही पहुंचा,

शर्तें एक दूसरे की मंज़ूर थी यूँ तो,
पर मसौदा हमारा कभी “करार” तक नही पहुंचा,

गहराई दोस्ती की मैं नापता भी कैसे,
रिश्ता हमारा कभी “तकरार” तक नही पहुंचा,

*********

कभी-कभी ज़िंदगी में ये तय
करना बड़ा मुश्किल हो जाता है कि गलत क्या है?
वो झूठ जो चेहरे पे मुस्कान लाए;
या वो सच जो आँखों में आंसू लाए।

********

जब उसने ददॅ दिया तो याद आया
मेने ही तो दुआओ में उसके सारे ददॅ मांगे थे

********

तुम तो मेरे करीब से निकले थे फिर भी कहते हो देखा ही नहीं……

कभी मुझे देखने की चाहत में इंतजार दिन-रात किया करते थे…

********

” गुजर तो जायेगी जिन्दगी उसके बगैर भी
लेकिन तरसता रहेगा दिल प्यार करने वालो को देखकर….”

*********

अच्छे दोस्तोँ की तलाश तो कमजोर दिल वालोँ को होती है…

बडे दिल वाले तो हर दोस्त को अच्छा बना लेते हैँ….

********

ऐ दिल थोड़ी सी हिम्मत कर ना यार:
दोनों मिल कर उसे भूल जाते है। …..

*********

इश्क वो खेल नहीं जो छोटे दिल वाले खेले,
रूह तक कांप जाती है सदमे सहते सहते..

**********

ज़िंदा रहेंगे तो हर दिन तुम्हें हम याद करेंगे..
भूल गये तो समझ लेना खुदा ने हमें याद कर लिया…

*******

जिनकी दोस्ती सच्ची है,
वो कब फ़रियाद करते है….?

जुबान खामोश होती है,
मगर दिल से याद करते है….!!

*******

मन में है जो, साफ साफ कह दो..
“फैसला” “फासले” से बेहतर होता है…..

**********

हमारे इश्क की तो बस इतनी सी कहानी हैं …,,

तुम बिछड गए,
हम बिख़र गए !!

तुम मिले नहीं,
हम किसी ओर के हुए नहीं !!

*********

हाँ है, तो मुस्कुरा दे…
ना है, तो नज़र फेर ले…
यूँ शरमा के आँखें झुकाने से उलझनें बढ़ रही हैं…!!!

*********

तुम ने कहा था…आँख भरके देख लिया करो हमें,
अब आँख भर आती है पर तुम नजर नहीं आते….!!

********

लोग वाकिफ हे मेरी आदतों से ..
रुतबा कम ही सही पर,
लाजवाब रखते है……

********

लम्हों ने खता की थी ,
सदियों ने सजा पाई है”

********

इश्क पे मुकदमा कर के क्या मिल जायेगा,
जनाब-ऐ-हुस्न को पकड़ो, जो फसाद की जड़ है !!

**********

वोह कबसे तलवार लिये मेरे पीछे भाग रही है…
मैने तो मजाक मै कहा था की…
दिल चीर के दैख… तेरा ही नाम होगा…

********

कुर्बान हो जाऊँ उस सख्श की हाथों की लकीरों पर
जिसने तुझे माँगा भी नहीं और तुझे पा भी लिया,

********

मत देख ऐ हसीना मुझको यु हँसते हँसते
मेरे दोस्त बड़े नालायक है, कह देंगे भाभी नमस्ते

********

फुर्सत किसे है ज़ख्मों पे मरहम लगाने की,
निगाहें बदल गयी अपने और बेगाने की,
तू न छोड़ना दोस्ती का हाथ, वरना
तम्मना मिट जायेगी कभी दोस्त बनाने की ||

**********

जीवन में अगर आप कामयाब हो तो सब माफ़ है ..

वर्ना सब आपके बाप है. . .

*********

जाने किस चमन की शाख़ सूनी हो गई होगी,

ये सोच कर हम फूल तोहफ़े में नही लेते !

********

पैसा कमाने के लिए इतना वक़्त खर्चा ना करो कि.

पैसा खर्च करने के लिए वक़्त ही ना मिले।

*********

चुप रहना ही बेहतर है, जमाने के हिसाब से !
धोखा खा जाते है, अक्सर ज्यादा बोलने वाले !!

*********

हाथ में टच फ़ोन,
बस स्टेटस के लिये अच्छा है….

सबके टच में रहो,
ज़िन्दगी के लिये ज्यादा अच्छा है ।

*********

कमाल का ताना दिया आज किसी ने मुझे..

कि, लिखते तो खूब हो, समझा भी दिया करो ! ……

*********

“कोई एक शख्स तो यु मिले,
कि वोह मिले तो, सुकून मिले…..!!

*********

यूँ ना खींच मुझे अपनी तरफ बेबस कर के,
ऐसा ना हो के खुद से भी बिछड़ जाऊं और तू भी ना मिले…

*********

बस ‘जान’ जाओ मुझे,
यही ‘पहचान’ है मेरी…

हम ‘दिल’ में आते हैं,
‘समझ’ में नहीं..!!

*********

सिमटते जा रहें हैं….दिल और ज़ज्बात के रिश्ते….
सौदा करने मे जो माहिर है….बस वही धनवान है…

********

सौ खामियाँ मुझमे सही मगर,

इक खूबी भी है,

अपनों को आज तक पराया नहीं किया….

*********

सीधा सादा डाकीया, जादु करें महान

एक ही थैलेमे भरे, आँसु और मुस्कान…!!!!!

**********

लाजिमी है उसका खुद पे गुरूर करना,
हम जिसे चाहे वो मामूली हो भी नही सकती…..

*******

मेरी उम्र इतनी तो नहीं फिर भी.. ना जाने क्यों??
.
बड़े बड़े आशिक़ मुझे सलाम करते है …!!

*********

“मेरी उम्र उसके ख्याल मेँ गुजरी,
मेरा ख्याल जिसे उम्र भर ना आया……..!”

*********

अपने हर लफ्ज में कहर रखते है हम,
रहे खामोश तो भी असर रखते है हम..!!

********

अनकहे शब्दों के बोझ से
थक जाता हूँ कभी..

ना जाने खामोश रहना
समझदारी है या मजबूरी?

********

सिर्फ इशारों में होती महोब्बत अगर,
इन अलफाजों को खुबसूरती कौन देता?

बस पत्थर बन के रह जाता “ताज महल”
अगर इश्क इसे अपनी पहचान ना देता..

********

भरे बाज़ार से अक्सर मैं खाली हाथ आता हूँ,
कभी ख्वाहिश नहीं होती कभी पैसे नहीं होते..!!

*********

आज वो काबिल हुए,
जो कभी काबिल ना थे,
और मंज़िलें उनको मिली,
जो दौड़ में शामिल ना थे

********

हम आज भी अपने हुनर मे दम रखते है ।।

फट जाती है लोगो की जब हम कदम रखते है।।

*********

यूँ ही कम है ज़िंदगी मोहब्बत के लिए ,
रूठ कर वक्त गवाने की ज़रुरत क्या है

*******

मेरे मुस्कुराते चेहरे को देख तुम मुझे
क्या समझोगे ,

मुझे तो वो नही समझ पाया जिसने मुझे
मुस्कुराना सिखाया…

********

तेरी चाहत तो मुक़द्दर है मिले न मिले,

राहत ज़रूर मिल जाती है तुझे अपना सोच कर.”

********

देखते है अब किस की जान जायेगी;

उसने मेरी और मेने उसकी कसम खाई हैं!

*******

“कौन कहता है मुझे ठेस का एहसास नहीं,
जिंदगी एक उदासी है जो तुम पास नहीं,

मांग कर मैं न पियूं तो यह मेरी खुद्दारी है,
इसका मतलब यह तो नहीं है कि मुझे प्यास नहीं.”

*******

मेरी तबाही का इल्जाम अब शराब पर है…
करता भी क्या..बात जो तुम पर आ रही थी….

********

अब तेरा नाम हथेलियों पर नहीं लिखते हम,,

कारोबार में सबसे हाथ मिलाना पड़ता है..!!!!!

********

वो साथ था तो …मानो जन्नत थी ज़िन्दगी……!
अब तो हर साँस ज़िंदा रहने की वज़ह पूछती है…!!

********

जींदगी गुझर गई सारी कांटो की कगार पर,

और फुलो ने मचाई है भीड़ हमारी मझार पर…..

********

ये कैसा इंतकाम है यारों.,की जिस शक्स पर ये दिल पलों में फिदा हुआ था….,
आज “मोहल्लत” माँग रहा है उससे “जुदा” होने को …

*********

उस शख्स से बस इतना ताल्लुक है मेरा…

वो परेशान हो तो मुझे नींद नहीं आती ।।

********

अच्छे अच्छो का ईमान जो हीला देती हे
सोये हुऐ कीतने को जगा देती हे
दौलत मे वो गरमी हे की जो चड जाये
तो ईन्सान को भी शैतान बना देती हे

********

कोई ताबीज ऐसा दो की मैं चालाक हो जाऊ

बहुत नुकसान देती है मुझे ये सादगी मेरी ।

********

आज फिर निकली है वो बे-नक़ाब शहर मे दोस्तों…
आज फिर भीड़ होगी कफ़न की दुकान में…..!!

********

बेवफाई तेरी आज मिटा कर आया हुँ.
खत तेरे सारे पानी मेँ बहा कर आया हुँ…..
.
कोई पढ़ ना ले तेरी बेवफाई के अफसाने,
इस लिए तेरी खातिर पानी मे भी आग लगा के आया हुँ………

********

उसको रब से इतनी बार माँगा है,
की अब हम सिर्फ हाथ उठाते है तो
सवाल फ़रिश्ते खुद ही लिख लेते है ।

********

गम तो सभी देते है
गम मे साथ कम देते है

********

समेट कर ले जाओ आप अपने झूठे वादों के अधूरे किस्से,
अगली मोहब्बत में आपको फिर इनकी जरुरत पड़ेगी !!

********

अजनबी थे तो अच्छा था….
इस जान पहचान ने कम्बखत…. फासले बढ़ा दिए…

********

मुझको जब ऊँचाई दे
मुझको जमीं दिखाई दे
एक सदा ऐसी भी हो
मुझको साफ सुनाई दे
दूर रहूँ मैं खुद से भी
मुझको वो तनहाई दे

********

तू इस कदर इन्सान को इतना बेबस ना बना मेरे खुदा…!!!

की तेरा बन्दा तुजसे पहले किसी और के आगे झुक जाये…..!!!

**********

” कभी जो थक जाओ तुम दुनिया की महफिलों से , हमें आवाज दे देना, हम अकसर अकेले होते हें !”..

*********

“ठहर सके जो …….. लबों पे हमारे,
हँसी के सिवा, है मजाल किसकी”..

*********

#ChetanThakrar

#+919558767835

 

ટૅગ્સ:

Shayri part 13


Dekho fir raat aa gai,
Good Night kahne ki bat yaad aa gai,
Hum baithe the sitaro ki panah mein,
Chand ko dekha to aap ki yaad aa gai.

********

Kitna pyar karte hai hum unse,
Kaash unko bhi yeh ehsaas ho jaye,
Magar aisa na ho ke woh hosh mein tab aaye,
Jab hum gehri neend mein so jaye…

********

Hum is kabil to nahi ke koi humein apna samjhega,

Lekin itna to yaqeen hai koi royega boho0at hume kho dene ke baad…

********

Vo samjhta hai ki har shakhs badal jata hai…..
Ussey lagta hai zamana us ke jaisa hai….

********

Dafan Karna Mujhe Apni Ankhon Me….

Ye Meri Aakhri Wasiyat Hai..!!

********

Main uske haathon ka khilona hi sahi;
kuch der ke liye hi sahi, usne mujhe chaha to hai..

*********

Chahat hai kisi chahat ko pane ki, chahat hai chahat ko aazmane ki,.

Wo chahe hume chahe na chahe par chahat hai unki chahat me mit jane ki.

*******

Ek raat dhadkan ne aankh se pucha.tu dosti me itni kyu khoi hai?
Tab dil se awaj aayi doston ne hi saari khusiyan di hai,

warna pyar krk toh ankh royi hai..

*********

Ajab Muqaam Pe Thehra Huwa Hai Kafila Dil Ka…

Sukoon Dhundne Nikle The, Neende Bhi Gawa Bethe…

********

” Meri yadon se agar bach niklo to waada mera hai tumse,
Main khud duniyaa se keh doon ga ke kammi meri wafaa mein thi..!”

*********

Meri Dehleez Par Aa Ruki Hai MOHABBAT Ab Kya Karoon Tu Hi Bata Aye Mere Khuda…

Mehmaan Nawazi Ka Shoq Bhi Hai Aur Ujad Jane ka Khauf Bhi…..

*********

Yaado k jungle me tab tak firta hu
Jab tak pair lahu luhan nahi ho jate..

********

Mujhe mere Kal ki Fikar Aaj bhi nahi hai..
Par Khuwahish tO tujhe Paane ki Qayamat tak rahegi..

********

Na Pocho Ke Meri Manjil Kaha Hai
Abhi To Safar Ka Irada Kiya Hai
Na Haronga Hosla Umar Bhar
Ye Mene Kisi se nahi khud se vadha kiya hai…

********

“Me Tumhe Kismat Ki Lakeeron Se Chura Leta…..
Faqat Ek Bar Tumne Mera Hone Ka Dawa To Kiya Hota…

********

Itne Lamhe Guzare Hai Tere Saath Humne
Ke Aaj Ek Lamha Tanha Guzarna Mushkil Hain.

********

Palkon Ki Hadd Ko Tod Kar Daaman Pe Aa Giraa,

Ek Ashq Mere Sabar Ki Toheen Kar Gayaa.

*********

Tujh Se Nahi Waqt Se Naraz Hu Main…!!!

Jo Kabhi Tumko Mere Liye Nahi Milta…!!!

*********

Na Samajh Sakoge Qayamat Tak Jise Tum,,

Qasam tumhari tumhen itna pyar karte hain..

********

“Apni tanhaayi se tang aa kar..
Bahut se aainey khareed laya hun …!”

*******

Tum Laut k anay ka takalluf mat
Karna,
Hum Ek mohabbat ko Do baar Nahi kartay…!!!

*******

Din Me Deepak Jalane Se Kya Hoga ,
Raakh Me Aag Lagane Se Kya Hoga,

Jab Aapko Aati Hi Nahi Hamari Yaad,
Toh Phir Yaad Dilane Se Kya Hoga?

*******

Usne mujhe pucha..muje pane k liye tum kis had tak ja sakte ho..

Mene kaha….

Agar had hi par karni hoti to tumhe kab ka paa liya hota…

*******

Naa Jane Q..!Magar is Jhoothi Dunya K Jhootay Log,

Wafain Kar Nhi Saktay Waday Hazaar Kartay Hain…

********

Beshak tumne mujhe thukra diya hai,
Mat sochna ke humne tumhe bhula diya hai,

Teri chahat pe aaj bhi bharosa hai,
Ye to meri kismat ne mujhe daga diya hai..!!!!!!

*******

Yaad rahega ye dour- E hayaat humko

Ki tarse the zindgi me zindgi ke liye !!!!

*******

Ek Tere Na Rehne Se Badal
Jaata Hai Sab Kuch……

Kal Dhoop Bhi Deewar Pe
Poori Nahi Utri…….

*********

Tujhse banti bhi nhi,
tere bina chalti bhi nhi..

*********

Ekka chahe kitna bhi bda ho

Magar
rani sirf badsah ki hi hoti haii..

********

Acha hua maloom ho gaya, Apno ki mohabbat ab mohabbat nahi rahi,

Warna hum toh apna ghar bhi chhod rahe they,
Unke dil main rehne ke liye

********

Ye mout bi badi ajeeb chiz hey yaro…
Sala Ek Din Marne ke liye Puri Zindgi Jini padTi hey…

********

Pyaar tera 1000 ke note jaisa … Dar lagta hai nakli na nikal jaye..

*********

Jis key naseeb mein hon zamaney ki thokar’ein…!!

Us bad-naseeb sey na sahar’on ki baat ker…

*********

Akele hai to kya hua,Ye zindgi bhi guzar jayegi….

Hum apni tanhai mitane ke liye kisi ko majbur nahi karte….!!!!

*********

Tu hasi chand kisi aur ka sahi

Par tu mere andhere ki roshni he…

*******

Zidd par ishq agar aa jaaye
paani chhidak ke aag lagaaye..

**********

Labo se tut gaye guftagu ke sab rishte
wo dekhta hei to bas dekhta hi rahta hei..

*********

Na Waqif The Hum Chahat K Asulon Se, Is Liye Barbaad Huye…..

Na Usne Apna Banaya Na Kisi Aur K Qabil Chora..

********

Honth mila diye usne Mere hontho se ye keh Kar………

Sharab peena chhod doge to ye jaam Roz milega …….

***********

Khuwab aankhon se churana meri aadat nhi..!!
kisi apne ko bhulana meri aadat nahi..!!

Palkain bhigo Leta hon apno ki yaad me..!!
Mgr kisi ko rulana meri aadat nahi…!!

*********

Bin tere mujko Zindagi se khauff lagta hai……
Kisto Kisto mein marr raha hu aisa roz lagta hai…

***********

Dil-e-Tabah Ko Zakhmon Ki Kuch Kami To Nhi,

Magar Hy Dil Ki Tamanna k Tum Phir Se Waar Karo..

*******

Har aankh yahan yun to bahut roti he,
har boond magar ashk nahi hoti he,
par dekh k ro de jo zamaane ka gam,
us aankh se aansu jo gire moti he…

********

Dekhi hotho ki hasi zakham na dekhe dil ka,
aap bhi oron ki tarha kha gae dhokha kese!!!!

*******

Tu saath hokar bhi saath nahi hoti …
Ab toh rahat mein bhi rahat nahi hoti…

********

Ya toh inhe mujhe maarna hoga … ya phir haarkar tujhe mere paas bhejna hoga

********

Main Jo Chahu To Tod Du Naata Tumse

Par Mein Buzdil Hu

Maut Se Darr Lagta Hai …

*********

Diwangi har raz khol deti hai, Khamosi bhi har baat bol deti hai,

Shikayat hai muze sirf is dunia se,
Jo dil ke jazbat bhi paiso se tol detihai.

*******

Hasai to hasi lav,
Radai to radi lav,
Sangraam chhe jindagi,
Ladai to ladi lav.

********

Mohabbat Aur Maut Dono Ki Pasand Bhi Ajeeb Hai:
Ek Ko Dil Chahiye:
Aur Dusre ko Dhadkan!

********

Ho Jaun Itna Madhosh Tere Pyar Mai

Ke Hosh Bhi Aane Ki Ijaazat Maange..

********

Kalyug he mere dost
Etna viswas mat rakh
Log jeb me namak liye ghumte hai
Apne ghav khule mat rakh..

*********

Mat kar pyar mujhse ay ajnabi, Sab ko pata hai main zamane mein badnaam hoon……!!

********

Terre samne zindagi padi hai guzarne ke liye,
Main to likh kar mitaya hua ek naam hoon…

********

Bin Dard Ke Roya Nahi Jata,
Bin Pyar Ke Rishta Banaya Nhi Jata,
Ek Baat Zindagi Me Yaad Rakhna,
Apni Khushi Ke Liye Kisiko Rulaya Nahi Jata..

******

Siddat-e-dard se sharminda nahi meri wafa
dost gahere hei to fir zakhm bhi gahere honge..

*********

Un zakhmo ko bharne me kuchh der to lagti hei
Jin zakhmo me shaamil ho apno ki inaayate..

*********

Tadap rahe hai hum tere ek alfaaz ke liye,
Khuda ka waasta todd de apni khamoshi hame zinda rakhne ke liye…!!

********

Main Khush Hu ke uski Nafrato’n ka Akela Waris Hu…!!!

Mohabbat To Unko Bohat se Logo’n Se Hai…!!

********

Jemne bhuli jata varso thaya, yaad aavya ek amathi vaat ma.

********

Tame vaato karo to thodu saru lage,
aa dur nu Aakash mane maru lage…

*********

Sodhi sakso ghar tame maru tarat,
saat sapna nu suku toran hase.

********

Tane jovanu jokham to khedyu, pan jovama jiv upar aavi che vaat.

********

Kevi aashubh palma banne malya hoisu k,
kale to kumbh mukyo, aaje nivas chhodyo.

*******

Mera Qaatil Pareshan Hai
Meri Maa Ki Duaon Se

Wo Jab Bhi Waar Karta Hai
Khanjar Toot Jaata Hai…

********

Tere Hote Huye Bhi Tanhai Mili Hai,
Wafa Karke Bhi Dekho Buraai Mili Hai,

Jitni Dua Ki Tumhe Pane Ki,
Us se Jayada Teri Judai Mili Hai…

“Teri yaad kuch is trha mere “dil” se lipti hai

K jaise “phool” pr ksi titli ko “neend” aa jaye..!!

*******

Wada humne kiya tha nibhane k liye…!!!
Ek dil diya tha ek dil paane k liye…!!!

Usne hume mohhabbat sikha di or kaha…!!!
Humne tumse mohhabbat ki thi kisi or ko jalane k liye…!!!

*********

Uski Pyari Muskan Hosh Uda Deti Hai,
Uski Aankhe Hume Dunia BhuLa Deti He

Aayegi Aaj Bhi Wo Sapne Me
Bas Yahi Ummeed Hume Roz SuLa Deti Hai…

*********

Ek Tumko Agar Chura Loon Main Toh….

Ye Zamaana Gareeb Ho Jaayega….

*********

Woh ek pal hi sahi, jis pal main wo sirf mera ho,
Us ek pal say zyada to zindagi ki khwahish bhi nahi….

********

Bohat thay mere bhi apne is duniya me…
Phir hame bhi ishq huwa aur hum tanha ho gaye…

********

Har Taraf Raah Main Thay Kaanty Bichay Huay…
Mujh Ko Teri Talab Thi, Guzarte Chale Gaye…

*********

Aap Hum Se Baat Apni Mrzi Se KarteHo,,aur Hum Bhi Kitne Pagal Hai aapkiMarzi Ka Intzaar Karte Hai….

*********

Na ji bhar k daikha na kuch baat ki,
Badi arzu thi mulaqat ki.

********

Itni sidat se bhi pyar na karna kabhi kisise
Bahut gehrayi mai jane wale aksar doob jate hai…

*********

Jurm-e-ulfat mein hamein log saza dete hain;
kaise naadaan hain, sholon ko hawa dete hain..

********

Is Duniya Me Wafa Karne Walon Ki Kami Nahi Hai
Bus Pyar Hi Us Se Ho Jata Hai Jise Qadar Na Ho…

********

Khuda Kare Jindagi Me Ye Makam Aaye
Tujhe Bhulne Ki Dua Karu Aur Dua Me Tera Naam Aaye.

*********

A Khuda Aaj Mene Dil Us K Kadmo Mein Rakh Diya…

Par Use Jmin Pe Dekhne Ki Aadat Nhi Thi..!!

********

Wo aur log honge jinko tere didar ki hasrat hogi…
Main ne tuje bepana chaha hai binna didar kiye.

*********

Kehnay ko To Bohat Si Baatain Hain Is Dil Main….,
Mukhtasir Lafzon Main Meri
Aakhri Khawahish Ho Tum….

*******

Jis din band kar li maine ankhe, kai ankho se uss din aansu barsenge,

Jo kehte hai k bahut tang karta hu me wahi meri ek sharart ko tarsenge…

*********

Chahat ne ansuo ke tohfe diye…
Baato ne yaado ke tohfe diye…
Isliye andhero se lipat ke ro pade hum…
Qki ujaalo ne bahut se dhoke diye….

*********

Saaf Keh Do Agar Gila Hai Koi..
Faislaa…Faaslon Sey Behtar Hota Hai..

*******

Kaise dikhau use mai apna dard ae mohabbat,
kabhi aansu sukh jate hai kabhi alfaz kam pad jate hai…

********

Dil ki Qeemat To Muhabbat K Siwa Kuch Na Thi….
Jitne Bhi Mile Surat K Khareedar Mile…

********

Guroor To Hona Tha Unko Hamari Mohabbat Ki Shiddat Dekh Kar
Magar Woh Apni Qadar Ki Soch Me,Hamari Qeemat Hi Bhool Gaye….

*********

Kuch khaas nahi bas itni si mohabbat he meri….
Har raat ka akhiri khayaal, har subha ki pehli soch ho tum!!

*********

Aaj us ny ajeeb sawal kr diya mujh se…
Marty mujh pr ho to fir jity kis k liye ho…..?

*********

Main Tabah Hoon Tere Pyar Mein, Tujhe Dusro Ka Khayal Hai…
Dost

Kuch Mere Masle Par Gaur Kar Meri Zindagi Ka Sawal Hai…

*********

Ye mera ishq tha ke deewangi ki inteha

Tere Qareeb se guzar gaye tere hi khayalon mein..

********

Zindagi tou apne kandho pe jee jati hai mere dost,

Dusro ke kandho per tou sirf jannaze uthte hai..

********

Itna udas shaam ka manzar kabhi na tha,…
sooraj ke sath doob gaya mera dil bhi aaj…

********

Dilon Ka Khel Jo Khelo To Yeh Bhool Mat Jana,

K Khel Khel Main Aksar Khilonay Toot Jate Hain.

*********

“Zindagi” me Na Jane Kaunsi Baat “Aakhari” Hogi,
Na Jane Kaunsi “Raat” Aakhari Hogi
“Milte, Julte,Baate” karte Raho Yar Ek “Dusre” Se Na Jane Kaunsi “Mulakaat” “Aakhari” Hogi……..

*********

Lehro ko khamosh dekhkar yeh nah samaj ki samandar mai ravangi nahi hai..,

Hum jab bhi uthege tufan banke uthege bas uthne ki abhi thani nahi hai…!

**********

“Hum Baney Hi They Tabaah Hone K Liye…!!

Tera Milna To Ek Bahana Tha…..”

*********

“Yeh sharaab yeh jaam hum hosh gawaa baithe,
yeh husan yeh adaa ab hosh me aayein kaise.”

**********

Kon puchhta hei pinjre me bandh panchhi o ko
Yaad to bas wohi aate hei, jo ud jaate hei..

*********

Mahobat ke hawale se tum bahot jaalim ho
Tod dete ho muje bhi apne wade ki taraha..”

********

Bhula diye the jo waqt ke bhanwar me hamne
aaj dil ke wo puraane zakham tezaab ho gaye…

********

Ajeeb tarah se naakam rahe hum dono.

Aap hume chah na sake…

Aur hum apko bhula na sake…

*********

Wo mujh se bichda to bichad gye zindagi..

Mein zinda to raha magar zindon me na raha..!

*********

Jo Safar Ki Shurwat Karte Hain,
Wo hi Manzil Ko Paar Karte Hain.
Bas ek Baar Chalne Ka Housla Rakhiye,
Achchhe insano Ka To Raste Bhi intazar Karte hai…

*******

Mai Kaise Yakeen Kar Lu,
Mujhse Mohabbat Nahi Thi Unko.
Suna Hai Aaj Bhi Wo Rote Hai,
Meri Tasweer Seene Se Laga Kar..

*********

Pyar har waqt saath rehta hai … kyun ki pyar waqt se nahin, usse kiya jaata hai jiske saath waqt guzaarte hain…

*********

Kitne Sitam Karoge Is Toote Huve Dil Par,
Thak Kar Batana Jaroor, Mera Jurm Kya Tha..??

*********

Mushkil to Ye Hai K Usse Meri Muhabat ka Yaqeen Hi Nahi,

Aur Hum Bhi MajbOOr Hain K Dil Nikal K Dikha Nahi Sakte !!

********

Kya Sunaoon Apni sabar ki kahani tumko…
.
Samandar ka Rakhwala tha, aur Saari Umar pyasa raha………….

********

Are Tuje aese hi yaad nahi karta hu,
Pagal jese Ab muje aadat ho gai he jaam ki,

Is dil ko bhi dhadakne ke liye rishwat chahiye tere naam ki..

*******

Namumkin hain es Dil ko samaj pana,
Kyuki Dil ka ek alag hi dimag hota hai…

**********

Tuj me aur cigarette me koi fark nahi….

Tu dur reh k jaan leti he, ye hotho se chhu k…

********

Honth mila diye usne mere hotho se ye kehkar…

Cigarette pina chhod do..

Kya mere hontho me nasha nahi hai!!!!

*********

Namak tum haath me lekar, sitamgr sochte kyu ho ?
hazaaro jakhm h dil pr,.. jahaan chaaho whaa chidko…

********

Apnay Siwa Batao Tumhein Kuch Mila Hai jaanu;
Hazar Bar Lee Hain Tumne Mere Dil Ki Talashiyaan!

*******

Woh Mujhse Door Hokar Khush Hein Toh Khush Hi Rehne Do;
Mujhe Apni Chahat Se Zyada, Unki Muskrahat Pasand Hai!

*******

Aaj ke jamane me wo hi imaandaar he,
Jisko beyimaani ka mauka nahi mila…

********

Jab chote the hum to jor se rote the
Jo pasand hota tha us paane ke liye,
Aaj bade hai to chupke se rote hain
Jo pasand hain use bhulane ke liye…

*********

Ruth gaye hamaare sab chahane vaale ruth gaye hame manane vaale ab to mobile bhi hum se puchta hai kaha gaye tumhe roz sms karne vaale!!!!

*********

Dard-E-Dil Me uska ehsas nhi hota,
Rota hai dil jab wo pas nahi hota,
Barbad ho gaye hum unki mohabbat me,
Aur wo kehte hai is tarah pyar nahi hota…

*******

Bus jeene hi to nahi degi….

Aur kya kar legi yaad teri….?

********

Bahut yaad karte hai wo muje…

Dil se ye vaham jata kyu nahi….

*********

Aur kitne imtehan lega waqt tu…..

Zindagi meri hai to fir marzi teri kyu ???

*********

Kabhi Aansu, Kabhi Sajde ,
To Kabhi Hatho Ka Uth Jana,,,
Mohabbat Nakaam Ho Jaye,
To Rab Bahot Yaad aata Hai..

********

Bohat socha Bohat samjha Bohat hi dair tak parkha

K tanha ho k jee laina Muhabbat se to behtar hai.

*********

Talaash kar meri kami ko apne dil me,
Dard huwa to samajh lena mohabbat abhi baaki hai…

********

Itnaa To Rulaa Diya Hota Ke
Aansoo Hi Chalak Aate,
Palkon Mein Ruke Hue Aansoun Ka Dard Saha Nai Jata……

*********

Aa Sikha De Mujhe Andaaz Mukar Jaane Ka…..

Waade Nibha Nibha Ke Thak Sa Gaya Huu main…

*********

Muhabbat Ko Paany Ki Tamana Ho To Logon Se Mat Ghabrao

Jo Hath Kanto Se Darte Hain Unko Phoolon ki Khushbu Kabhi Nahi Milti…

********

Sirf do shakhas zindgi m khus rhete h
Ek vo jise sacchhi mahobbat mil jaye
Dusra vo Jose kabhi kisise mahobbat hi na ho

********

Muhabbat mein kisi ka imitihan na lo kbi,
Jo nibha naa sako wo vada na do kbi,
jisy tum bin rehny ki adat hi na ho,
Usy jeny ki dua naa do kbi.

*********

Tezaab Se Khelne Ka Shauk Tha Mujhe …..
Tujhse Dil Laga Ke Ye Shauk Bhi Poora Ho Gaya….!!

*********

Hum donon hi darte the, ek dusre se baat karne se,
Main,muhabbat ho gayi thi isliye, Wo muhabbat n ho jaye isliye…

********

Toot Sa Gaya Hai Meri Chahton Ka Wazood,,,

Ab Koi Achha Bhi Lage To IZHAAR Nahi Karte..

*********

Ek din jab meri sans band ho jayegi
Mat sochna ki chahat kam ho jayegi
Fark sirf itna hoga
Aaj hum aapko yaad karte hain
Kal meri yaad aapko rulayegi..

*********

Acha lagta hai tera naam mere naam ke sath..
Jaise koi subah judi ho,kisi haseen shaam ke sath..

********

Ae zindagi mujse yu daga na kar, main zinda rahu ye dua na kar, koi dekhta hai use to hoti hai jalan mujhe, ae hawa tu bhi use zyada chhua na ker….

*********

Mujh se Mat puchh Mere Mehbub ki sadgi ka “Andaz”……..!!!
“Ae-DosT” ..!!Nazrein bhi Mujh pe thi Aur Nafrat bhi Mujh se thi….!!

*******

Yu alfaazo ki ahemiyat na badhaaiye,
Ashqo ki bhi apni ek jubaan hoti hei..

********

Ye zindagi swaal thi, jawaab maagne lage,
Farishte aake khwaab me hisaab maagne lage.

Idhar kiya karam kisi pe aur udhar jataane lage
Namaaz padh ke aaye aur saraab maagne lage.

*********

Kar kuchh mera bhi ilaaj ae haqim-e-ishq
Jis raat pura chaand ho, soya nahi jaata…

********

Lajjat thi kabhi, ab to musibat si ho gai hei,
mujko gunaah karne ki aadat si ho gai hei..

*********

Sab Khasaaro’n ko Jama Kar Kay Ye Haasil Niklaa,
Dil-e-Nadaa’n Ki Koi Baat na Maani Jaaye……!!

*******

Guzri hai kal woh raat ajeeb si,
karte rahe woh humse chaahat ajeeb si,

Ab saari zindagi tanha hi jina hoga,
bichadte waqt woh kar gayi baat ajib si…

**********

Dil Mein Khila Hai Aapke Naam Ka Phool
Dil Se Kahi Hona Jaye Koi Bhool

Dil Ka Hai Aapke Liye Alag Sa Usool
Ki Aapki Khushi Ke Aage Hai Sab Kuch Qubool !!!

********

Khwaab lafzo me nahi dhalte
kaash aankhe padha kare koi

********

Teri Chahat Ab Meri Aankhon Me Hai…..
Teri Khushbu Meri Sanson Me Hai….

Mere Dil Ko Jo Ghayal Kar Jaye……
Aisi Ada Sirf Teri Baaton Me Hi Hai…..

********

Aashiyane toot jate hai ek toofan se,
Zindagi badal jati hai ek insaan se,

Kya kya chupaoge jaha walo se yaaro,
Khamoshi bahut kuch keh jati hai aankho se.

*******

Na Chaho Fir Bhi Ye Ishq Insaan Ko Deewana Bana Deta He, Ajeeb Khel He Uprar Wale Ka, ‘Dil’ To Deta He Magar ‘Dhadkan’ Kisi Aur Ko Bana Deta Hai…

*********

Khushboo ki tarah aapke pass bikhar jayenge,
Sukun banker dil me utar jayenge,

Mehsus karne ki koshish toh kijiye,
Dur hote hue bhi hum pass nazar aayenge….

*******

Kaha sirf usne itna tha ki, tumhari Khamosi mujhe bahot pasand hai.

Itna sunna tha ki Humne apni shor , Machaati dhadkane bhi rok li.

*********

Dil Jal Kar Rakh Hua,Aankho Se Roya Na Gaya……
Jakhm Kuch Aise Lage Phoolon Par Bhee Soya Na Gaya…

*********

Terey Pyaar Ki Hifazat Kuch Isssss Tarha Se Ki Maine…!! . .

Ki . . Jab Kbhi Kisi Ne Pyar Se Dekha Toh Nazrain Jhuka Lien Maine..!!

********

Mukammal he taqdir teri…
Badalneki koshish mat kar…
Mitti ka putla he bas tu….
sirf aajmaayis kar…

*********

Mukhtasar mohabat ka mukhtasar anjaam

Waha Tum bichade ..
Yaha Hum bikhre ..

*********

Kal Raat Khwab Me Aapki Tasveer Bana Dali, Itni Achchi Lagi K Dil Se Laga Dali,

Jab Hua Khauf K Koi Chura Na Le Use, To Itna Roye K Apane Aaansuo Se Hi Mita Daali….

**********

Hum to manzil ki aur nikal pade
hai,
dekhenge pehle khuda milta hai ya tu.

*********

Khamoshiyon Me Ek Ada Itna Pyara Laga,
Aapka Pyar Hume Sabse Nyra Laga,

Yeh Na Tute Kabhi Yehi Dua Thi Meri,
Kyuki Yehi Ek Cheez Duniya Me Hume Hamara Laga…

*********

Kaha jana tha or kaha aa gaye,
zindagi me mehman bankar aa
gaye,

Abhi zindagi ki kitaab kholi thi or
na jane kitne imtehaam aa gaye.

*********

Suna Tha Khuda Sabki Suntan Hai
Isliye Dua Karne Ki Bhool Kar Baithe,

Pyar Ka Anjaam Kahan Malum Tha
Isiliye Dil Lagane Ki Bhool Kar Baithe.

**********

Chehre ki muskan ban gaye hai woh,
Dil ki dharkan ban gaye hai woh,
Zee na paenge unke beena,
Qki mere Zeene ki wajah ban gaye hai woh..

*********

Kitna pyaar karte hum unse,
Kaash unhe bhi ye ehsas ho jaye,
Kahi aisa na ho ki woh hosh mein tab aaye
Jab hum KISI AUR ke ho jaye.

*********

Ishq ki shakal me aayi thi tabaahi meri..

Wo kareeb aate gaye aur hum lut’te gaye..

********

Apne Haatho Ki Hatheli Par..
Uska Naam To Likh Liya..
Par Ye Bhi Na Socha Ki
Taqdeer To Khuda Likhta Hai..!

*********

Ye zalzalay yunhe besabab to nahi aatay

Zaroor zameen k neechay koi dewana tadapta hoga

*********

Tu hi bata kaha se dhund kar lau ab apne aap ko..

tujhe pane ke liye maine khud ko hi kho diya…

*********

Jholi faila kar manga khuda se
unhe…
par khuda ne meri fariyad ko suna hi nahi…
maine pucha aakhir kya hai wajah…
to kaha kyu chuna use jo tere liye bana hi nahi..

*********

Ajeeb Hain Ye Muhabbat K Asool…

Ruth Koi Jata Hai, Toot Koi Jata Hai…

*********

Barbaadio ka jaayza lene ke vaaste
wo puchh lete hei hal mera kabhi kabhi…

********

Wo apni ahmiyat har bar puchte hain mujhse…
Jane kyu meri nazro se khud ko dekhkar nahi dekhte…….

************

Muhabbatein or bhi badh jati hain juda hone se…

Tum sirf mere ho is baat ka khayal rakhna..

********

Khud hi na Chupa sake wo apne chehre ko Naqaab main

Be waja hamari Aankhon pe Ilzaam aa gaya…

*******

Ajab aarzu hei, anokhi adaa hei
Tuji se tuje maagna chaahta hu..

********

Apne khwab me jis Kisi ne bhi tuje dekha hoga
nind khulte hi wo teri talaas me nikla hoga….

*********

Souchta hun unhe to doob sa jata hun….

Ankhain hi nahi un ki yaadein bhi samander hain…

*********

Chalo so jate hain ab fir kisi sach ki talash mein.

Kal fir,

Subah uth kar phir is jhuthi duniya ka deedar karna hai.

**********

Jaise log sharab me soda aur pani milate he

Waise hi hum teri yaad me sharab milate he..

********

Tujh Peh Kuch Aehtibar Tha Warna
Dil Bhala Kon Udhar Deta Hai..!!!!!!

***********

Kisi Ki Yaad Me Anshu Bahane Hi Hai To Adab Se Bahao,
Suna Hai Sajde Me Gira Ek Anshu Bhi Bada Kimti Hua Karta Hai…!

***********

PYAR MOHOBAT ISHQ YE SAB BADNAM HAI,
SACCHI MOHOBat karna ek ilzam hai,,
meri mano kbi pyar mat karna,kyonki,,
pyar mai ladko ko dokha dena ladkiyon ka kaam hai,,

*********

Teri mohabbat teri wafa tera irada tu jaane….
Me karta hu sirf or sirf tujhse hi mohabbat ye mera khuda jaane…..

***********

Ab ke bikhra to puri tarah se bikhar jaaunga
mei teri zulf nahi hu ki har bar sanwar jaaunga..

**********

Ye aur baat hai ki kismat mujshe lipatkar roli.

Warna baahein toh tujhe dekhkar failayi thi..!

*********

Chhalo aaj bajar me khud ka bhav lagakar dekhe.
Kimat sahi n mile, to n sahi.
Bajar ki aukat pata laga kar dekhe…

**********

Muhabbat Haar Ke Jeena Bohat Mushkil Hota Hai
UssE Bus Itna Bata Dena Bhram Toda Nahi Karte..

*********

Zulm Ki Mujh Par Inteha Kar Do,,,
Fir Koi Be Zubaan Mile Na Mile…

**********

Tumse Milta Hoon To Iss Soch Main Pad Jata Hoon,,,
Waqt Ke paon Zanjeer Main dalu Kaise…

********

#ChetanThakrar

#+919558767835

 

ટૅગ્સ: