RSS

मेरी आदत नही

08 Apr

किसी को तकलीफ देना मेरी आदत नही
बिन बुलाया मेहमान बनना मेरी आदत नही

मैं अपने गम में रहता हूँ नबाबों की तरह
परायी ख़ुशी के पास जाना मेरी आदत नही

सबको हँसता ही देखना चाहता हूँ मै
किसी को धोखे से भी रुलाना मेरी आदत नही

बांटना चाहता हूँ तो बस प्यार और मोहब्बत
यूँ नफरत फैलाना मेरी आदत नही

ज़िदगी मिट जाये किसी की खातिर गम नही
कोई बद्दुआ दे मरने की यूँ जीना मेरी आदत नही

सबसे दोस्त की हैसियत से बोल लेता हूँ
किसी का दिल दुखा दूँ मेरी आदत नही

दोस्ती होती है दिलों के चाहने पर
जबरदस्ती दोस्ती करना मेरी आदत नही..

 

2 responses to “मेरी आदत नही

  1. Manish Agrawal

    મે 30, 2014 at 12:21 am

    Hi…. I m very much impressed with ur shayris & stories…. i read these everytime when i m free, plz upload these qualities as i feel good when i read such kind of shayris & stories….

     

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: