RSS

12 ज्योतिर्लिंगों का महत्व व महिमा, 

24 જુલાઈ

“” भगवान शिव की भक्ति का महीना सावन शुरू हो चुका है। शिवमहापुराण के अनुसार एकमात्र भगवान शिव ही ऐसे देवता हैं, जो निष्कल व सकल दोनों हैं। यही कारण है कि एकमात्र शिव का पूजन लिंग व मूर्ति दोनों रूपों में किया जाता है। भारत में 12 प्रमुख ज्योतिर्लिंग हैं। इन सभी का अपना महत्व व महिमा है। 

ऐसी मान्यता भी है कि सावन के महीने में यदि भगवान शिव के ज्योतिर्लिंगों के दर्शन किए जाएं तो जन्म-जन्म के कष्ट दूर हो जाते हैं। यही कारण है कि सावन के महीने में भारत के प्रमुख 12 ज्योतिर्लिंगों के दर्शन करने के लिए श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ता है। आज हम आपको बता रहे हैं इन 12 ज्योतिर्लिंगों का महत्व व महिमा-“”

1- सोमनाथ

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग भारत का ही नहीं अपितु इस पृथ्वी का पहला ज्योतिर्लिंग माना जाता है। यह मंदिर गुजरात राज्य के सौराष्ट्र क्षेत्र में स्थित है। इस मंदिर के बारे में मान्यता है, कि जब चंद्रमा को दक्ष प्रजापति ने श्राप दिया था, तब चंद्रमा ने इसी स्थान पर तप कर इस श्राप से मुक्ति पाई थी। ऐसा भी कहा जाता है कि इस शिवलिंग की स्थापना स्वयं चन्द्र देव ने की थी। विदेशी आक्रमणों के कारण यह 17 बार नष्ट हो चुका है। हर बार यह बिगड़ता और बनता रहा है। 

2- मल्लिकार्जुन

यह ज्योतिर्लिंग आन्ध्र प्रदेश में कृष्णा नदी के तट पर श्रीशैल नाम के पर्वत पर स्थित है। इस मंदिर का महत्व भगवान शिव के कैलाश पर्वत के समान कहा गया है। अनेक धार्मिक शास्त्र इसके धार्मिक और पौराणिक महत्व की व्याख्या करते हैं। 

कहते हैं कि इस ज्योतिर्लिंग के दर्शन करने मात्र से ही व्यक्ति को उसके सभी पापों से मुक्ति मिलती है। एक पौराणिक कथा के अनुसार जहां पर यह ज्योतिर्लिंग है, उस पर्वत पर आकर शिव का पूजन करने से व्यक्ति को अश्वमेध यज्ञ के समान पुण्य फल प्राप्त होते हैं। 

3- महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग 

यह ज्योतिर्लिंग मध्य प्रदेश की धार्मिक राजधानी कही जाने वाली उज्जैन नगरी में स्थित है। महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग की विशेषता है कि ये एकमात्र दक्षिणमुखी ज्योतिर्लिंग है। यहां प्रतिदिन सुबह की जाने वाली भस्मारती विश्व भर में प्रसिद्ध है। महाकालेश्वर की पूजा विशेष रूप से आयु वृद्धि और आयु पर आए हुए संकट को टालने के लिए की जाती है। उज्जैनवासी मानते हैं कि भगवान महाकालेश्वर ही उनके राजा हैं और वे ही उज्जैन की रक्षा कर रहे हैं।

4- ओंकारेश्वर

ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग मध्य प्रदेश के प्रसिद्ध शहर इंदौर के समीप स्थित है। जिस स्थान पर यह ज्योतिर्लिंग स्थित है, उस स्थान पर नर्मदा नदी बहती है और पहाड़ी के चारों ओर नदी बहने से यहां ऊं का आकार बनता है। ऊं शब्द की उत्पति ब्रह्मा के मुख से हुई है। इसलिए किसी भी धार्मिक शास्त्र या वेदों का पाठ ऊं के साथ ही किया जाता है। यह ज्योतिर्लिंग औंकार अर्थात ऊं का आकार लिए हुए है, इस कारण इसे ओंकारेश्वर नाम से जाना जाता है।

5- केदारनाथ

केदारनाथ स्थित ज्योतिर्लिंग भी भगवान शिव के 12 प्रमुख ज्योतिर्लिंगों में आता है। यह उत्तराखंड में स्थित है। बाबा केदारनाथ का मंदिर बद्रीनाथ के मार्ग में स्थित है। केदारनाथ समुद्र तल से 3584 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। केदारनाथ का वर्णन स्कन्द पुराण एवं शिव पुराण में भी मिलता है। यह तीर्थ भगवान शिव को अत्यंत प्रिय है। जिस प्रकार कैलाश का महत्व है उसी प्रकार का महत्व शिव जी ने केदार क्षेत्र को भी दिया है।

6- भीमाशंकर

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र के पूणे जिले में सह्याद्रि नामक पर्वत पर स्थित है। भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग को मोटेश्वर महादेव के नाम से भी जाना जाता है। इस मंदिर के विषय में मान्यता है कि जो भक्त श्रद्धा से इस मंदिर का दर्शन प्रतिदिन सुबह सूर्य निकलने के बाद करता है, उसके सात जन्मों के पाप दूर हो जाते हैं तथा उसके लिए स्वर्ग के मार्ग खुल जाते हैं।

7- काशी विश्वनाथ

विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग भारत के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। यह उत्तर प्रदेश के काशी नामक स्थान पर स्थित है। काशी सभी धर्म स्थलों में सबसे अधिक महत्व रखती है। इसलिए सभी धर्म स्थलों में काशी का अत्यधिक महत्व कहा गया है। इस स्थान की मान्यता है कि प्रलय आने पर भी यह स्थान बना रहेगा। इसकी रक्षा के लिए भगवान शिव इस स्थान को अपने त्रिशूल पर धारण कर लेंगे और प्रलय के टल जाने पर काशी को उसके स्थान पर पुन: रख देंगे। 

8- त्र्यंबकेश्वर

यह ज्योतिर्लिंग गोदावरी नदी के करीब महाराष्ट्र राज्य के नासिक जिले में स्थित है। इस ज्योतिर्लिंग के सबसे अधिक निकट ब्रह्मागिरि नाम का पर्वत है। इसी पर्वत से गोदावरी नदी शुरू होती है। भगवान शिव का एक नाम त्र्यंबकेश्वर भी है। कहा जाता है कि भगवान शिव को गौतम ऋषि और गोदावरी नदी के आग्रह पर यहां ज्योतिर्लिंग रूप में रहना पड़ा। 

9- वैद्यनाथ 

श्री वैद्यनाथ शिवलिंग का समस्त ज्योतिर्लिंगों की गणना में नौवां स्थान बताया गया है। भगवान श्री वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग का मन्दिर जिस स्थान पर अवस्थित है, उसे वैद्यनाथ धाम कहा जाता है। यह स्थान झारखंड राज्य (पूर्व में बिहार ) के देवघर जिला में पड़ता है। 

10- नागेश्वर ज्योतिर्लिंग

यह ज्योतिर्लिंग गुजरात के बाहरी क्षेत्र में द्वारिका स्थान में स्थित है। धर्म शास्त्रों में भगवान शिव नागों के देवता है और नागेश्वर का पूर्ण अर्थ नागों का ईश्वर है। भगवान शिव का एक अन्य नाम नागेश्वर भी है। द्वारका पुरी से भी नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की दूरी 17 मील की है। इस ज्योतिर्लिंग की महिमा में कहा गया है कि जो व्यक्ति पूर्ण श्रद्धा और विश्वास के साथ यहां दर्शन के लिए आता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती है।

11- रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग

यह ज्योतिर्लिंग तमिलनाडु राज्य के रामनाथपुरं नामक स्थान में स्थित है। भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक होने के साथ-साथ यह स्थान हिंदुओं के चार धामों में से एक भी है। इस ज्योतिर्लिंग के विषय में यह मान्यता है कि इसकी स्थापना स्वयं भगवान श्रीराम ने की थी। भगवान राम के द्वारा स्थापित होने के कारण ही इस ज्योतिर्लिंग को भगवान राम का नाम रामेश्वरम दिया गया है। 

12- धृष्णेश्वर मन्दिर

घृष्णेश्वर महादेव का प्रसिद्ध मंदिर महाराष्ट्र के औरंगाबाद शहर के समीप दौलताबाद के पास स्थित है। इसे घृसणेश्वर या घुश्मेश्वर के नाम से भी जाना जाता है। दूर-दूर से लोग यहां दर्शन के लिए आते हैं और आत्मिक शांति प्राप्त करते हैं। भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से यह अंतिम ज्योतिर्लिंग है। बौद्ध भिक्षुओं द्वारा निर्मित एलोरा की प्रसिद्ध गुफाएं इस मंदिर के समीप स्थित हैं। यहीं पर श्री एकनाथजी गुरु व श्री जनार्दन महाराज की समाधि भी है।

Advertisements
 
2 ટિપ્પણીઓ

Posted by on જુલાઇ 24, 2014 in અંગત

 

ટૅગ્સ:

2 responses to “12 ज्योतिर्लिंगों का महत्व व महिमा, 

  1. અરવિંદ

    જુલાઇ 26, 2014 at 10:23 પી એમ(pm)

    બાર જ્યોર્તિલિંગની મહ્ત્તા આપે સુંદર રીતે જણાવી. મારાં મનમાં મુંઝાતા પ્રશ્ન વિષે આપ પ્રકાશ પાડશો તેવી આશા રાખું છું.
    આપ સૌ જાણો છો કે, આગામી થોડા દિવસોમાં જ શ્રાવણ માસ આવી રહ્યો છે આ શ્રાવણ માસ આપણાં દેશમાં અદકેરું અને વિશેષ મહત્વ ધરાવે છે. મહાદેવ અર્થાત શિવને લગતા ઘણાં બધા ઉત્સવો ઉજવવામાં આવે છે. જેમાં શ્રાવણમાં મહાદેવને દૂધ અને બીલી પત્ર ચડાવવામાં આવે છે જે થકી.પૂણ્ય મેળવી લેવાની અભીપ્સા રહેતી હશે.
    છેક ઓગષ્ટ ૨૦૦૯થી મેં એક કરતા વધુ વાર, મારાં વિધ્ધવાન બ્લોગર મિત્રો સમક્ષ મારાં મનમાં ઉદભવેલો પ્રશ્ન રજૂ કરતો રહ્યો છું કે, મહાદેવને દૂધ તથા બીલી પત્રો શા માટે ચડાવવામાં આવે છે ક્યા સમયે, કોણે આ પ્રયોજયું હશે અને તેની પાછળનો તર્ક, કાર્ય-કારણ અર્થાત રેશનલ શું હોઈ શકે ?
    જ્યારે અસંખ્ય બાળકો દૂધ વગર ટળવળતા હોય, એક ટીપું પણ તેમના ભાગ્યમાં નસીબ ના થતું હોય ત્યારે. આજે 21મી સદીમાં. આ દૂધનો અભિષેક અંધશ્રધ્ધા નથી ? આજ દૂધ. દૂધ વંચિત બાળકોને પાવાથી પૂણ્ય ના મળે ? અલબત્ત કેટલાક વિસ્તારોમાં આવું દૂધ બાળકોને પીવડાવવાની શરૂઆત થઈ હોવાના સમાચાર ક્યારે ક મળે છે જે સીલ્વર લાઈન જણાય છે.
    આ વિષે આદરણીય સ્વામી સચ્ચિદાનંદે કહ્યાનું મને યાદ આવે છે કે, “આપણે ત્યાં મહાદેવને દૂધ ચડાવી પૂજા કરવામાં આવે છે તે જો શક્ય હોય તો પૂરેપૂરી રીતે બંધ કરી અને આ દૂધ ગરીબ બાળકો વચ્ચે વહેંચી દેવું જોઈએ પણ જો શ્રધ્ધાળુને દૂધ ચડાવવું જ હોય તો ભલે દૂધ ચડાવે પણ આ દૂધને નીકમાં વહી જવા દેવાને બદલે એક કુંડી/વાસણમાં એકઠું કરી રીસાયકલથી શુધ્ધ કરી, ગરીબ બાળકોને પીવા આપવું જોઈએ.”
    આ સૂચન કેટલા લોકોએ સ્વીકાર્યુ તે જાણવામાં આવ્યું નથી. મહાદેવના મંદિરમાં આ દૂધ જે નીકમાં વહેતું હોય છે તે સ્થળે તીવ્ર દુર્ગન્ધ આવતી હોય છે કે કોઈ વ્યક્તિ ત્યાં 1-2 મિનીટ પણ ઉભી ના રહી શકે. પંરતુ આપણી અંધ શ્રધ્ધા એટલી પ્રબળ હોય છે કે ગંદ્કી આપણને કોઠે પડી ગઈ છે . આપણાં ઈશ્વરે પણ આનો સ્વીકાર કર્યે જ છૂટ્કો, કારણ ભક્તો રાખે તેમ ભગવાને પણ રહેવું પડે છે.
    આજે હજુ પણ મોટાભાગના લોકો અંધ્શ્રધ્ધાથી દોરવાઈ અરે ! પોતાના બાળકને પણ દૂધથી વંચિત રાખી દૂધનો અભિષેક કરતા જોવા મળે છે. આવા લોકોના મનમાં ક્યારે ય ” દૂધ જ શા માટે ?” તેવો પ્રશ્ન ઉપસ્થિત નહિ થતો હોય ? કોઈ ગુરૂ-સ્વામી કે સંતો સમક્ષ રજૂ કરી કેમ નહિ પૂછતા હોય ?.
    આથી જ્યારે શ્રાવણ માસ દરવાજે ટકોરા મારી રહ્યો છે ત્યારે મને ફરીને એક વાર મારાં બ્લોગર મિત્રો અને વડિલો કે જે અત્યંત વિધ્ધ્વાન, અભ્યાસુ અને ચિંતક છે તેમની સામે ઉપસ્થિત થઈ મારાં મનમાં ઉભરેલા અને પ્રત્યુત્તરની ચાર વર્ષ થયા રાહ જોઈ રહેલા પ્રશ્નો દોહરાવી રહ્યો છું.
    ( 1 ) મહાદેવને દૂધ શા માટે ચડાવવામાં આવે છે ? તેની પાછળ રહેલ તર્ક-રેશનલ કે કાર્ય-કારણ જણાવો. સાથે બીલી પત્રોના અભિષેક વિષે પણ જણાવવા વિનંતિ.
    ( 2 ) કયા સમયે અને કયા કાળમાં, કોણે આ દૂધ ચડાવવાની પ્રથા શરૂ કરી અને તેની પાછળ શું પ્રયોજન હોઈ શકે ? અને આજની આ 21મી સદીમાં આ પ્રથા કેટલી પ્રસ્તુત ગણી શકાય ? માત્ર બીલી પત્રો જ શા માટે ?
    ( 3) મહાદેવના મંદિરમાં મહાદેવની સામે” નંદી” અને નંદીના અગ્રભાગમાં “કાચબો” મૂકવામાં આવ્યા છે તેની પાછળનું રહસ્ય શું હોઈ શકે ? આ ” નંદી ” અને ” કાચબો ” શાના પ્રતિક છે અને શાનો સંકેત કરે છે ?
    મને વિશ્વાસ છે કે, આ વર્ષે મને અચુક જવાબ મળશે, ભલે છેલ્લાં ચાર વર્ષ થયા ના મળ્યો હોય તો પણ ! મારાં વિધ્ધવાન બ્લોગર મિત્રો મને નિરાશ નહિ કરે તેવી આશા સાથે‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌………..

     
  2. Saralhindi

    જુલાઇ 28, 2014 at 7:24 એ એમ (am)

    Very Good.

    આઓ મિલકર સંકલ્પ કરે,
    જન-જન તક ગુજનાગરી લિપિ પહુચાએંગે,
    સીખ, બોલ, લિખ કર કે,
    ગુજરાતી કા માન બઢાએંગે.
    ઔર ભાષા કી સરલતા દિખાયેંગે .
    બોલો હિન્દી લેકિન લિખો સર્વ શ્રેષ્ટ નુક્તા/શિરોરેખા મુક્ત ગુજનાગરી લિપિમેં !

     

પ્રતિસાદ આપો

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / બદલો )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / બદલો )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / બદલો )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / બદલો )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: